Featured

नक्सल प्रभावित इलाकों में ITBP जवान दे रहे हैं हॉकी और तीरंदाजी की ट्रेनिंग

तीरंदाजी की ट्रेनिंग

रायपुर। छत्तीसगढ़ का नक्सल प्रभावित कोंडागांव जिला इन दिनों चर्चा में है। चर्चा की वजह है कोंडागांव की स्कूली लड़कियां। ये स्कूली लड़कियां अब हॉकी खेलती हैं। सिर्फ खेलती ही नहीं हैं अलग-अलग टूर्नामेंटों में भाग ले रही हैं और जीत का परचम भी फहरा रही हैं। इन लड़कियों को हॉकी खेलना सिखाया है भारत तिब्बत सीमा पुलिस (ITBP) के जवानों ने। ITBP की इस पहल की चारों ओर प्रशंसा हो रही है।





ITBP की 41 बटालियन के जवान बटालियन कैंप के नजदीक एक स्कूल की 30 लड़कियों को हॉकी खेलने की ट्रेनिंग दे रहे हैं। सिर्फ हॉकी ही क्यों ये जवान तीरंदाजी भी सिखा रहे हैं। यही नहीं ये जवान पास के गांव में स्कूल के बच्चों को पढ़ा भी रहे हैं।

शुरू में लड़कियों को हॉकी खेलने के लिए प्रेरित करना आसान नहीं था। शुरुआती दौर में तो लड़किया डरी-डरी रहती थीं लेकिन जब उन्होंने खेलना शुरू किया तो उन्हें अच्छा लगने लगा।

मीडिया खबरों के मुताबिक 41 बटालियन के कमांडेंट सुरेंद्र खत्री कहते हैं कि बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ के नारे के साथ बेटी खेलाओ भी जोड़ दिया है। हमने स्कूल की 30 लड़कियों को चुना और उन्हें हॉकी खेलने की ट्रेनिंग दी। कुछ ही महीनों की मेहनत का नतीजा है कि अब ये लड़कियां अलग-अलग प्रतियोगिताओं में न सिर्फ हिस्सा ले रही हैं बल्कि शानदार प्रदर्शन भी कर रही हैं।

जिले के ही एक गांव हडेली में ITBP के जवान बच्चों को पढ़ाने का काम भी कर रहे हैं। ITBP के कुछ जवान स्कूल में जाकर नियमित रूप से बच्चों को पढ़ाने का काम करते हैं। गांववालों के मुताबिक अगर कोई बच्चा किसी दिन स्कूल नहीं पहुंचता है तो ये जवान उनके घर जाकर पता करते हैं कि बच्चा स्कूल क्यों नहीं आया। पांच महीने पहले हडेली गांव के स्कूल में सिर्फ 30 बच्चे ही आते थे लेकिन आज यह संख्या बढ़कर 88 तक हो गई है।

Comments

Most Popular

To Top