Featured

टैंकों के युद्ध खेल में भारत फाइनल में नहीं पहुंचा 

इंटरनेशनल आर्मी गेम्स में टैंक
इंटरनेशनल आर्मी गेम्स में टैंक (प्रतीकात्मक)

नई दिल्ली। रूस में इन दिनों चल रहे इंटरनेशनल आर्मी गेम्स में टैंकों के युद्ध-खेल के सेमीफाइनल राउंड से भारत बाहर हो गया। टैंकों के युद्ध खेल (टैंक बायथलान) की टॉप की चार टीमें फाइनल राउंड में पहुंची। सेमीफाइनल राउंड में 12 टीमों ने भाग लिया था।





इन युद्ध खेलों के नतीजों के बारे में यहां एक अधिकारी ने बताया कि काफी उत्साही प्रदर्शन के बावजूद भारतीय टीम मामुली अंकों से पीछे छूट गई। जिन टीमों ने फाइनल राउंड में प्रवेश किया वे हैं- रूस, कजाकस्तान, बेलारूस औऱ चीन। भारतीय औऱ चीनी टैंक टीमों के बीच टाइम का फासला केवल छह  मिनट का ही रहा।

टैंक बायथलान के लिये पांचवें और छठे टीम पोजिशनों की गणना की जा रही है और नवीनतम जानकारी के मुताबिक भारतीय टीम 23 टीमों में से पांचवें या छठे स्थान पर रहने की उम्मीद है। एक अधिकारी ने बताया कि सोसना साइट के इस्तेमाल के बावजूद भारतीय टीम अधिक अभ्यास से बेहतर  प्रदर्शन कर सकती थी।

इंटरनेशनल आर्मी गेम्स की दूसरी प्रतियोगिता एलब्रस रिंग माउंट एलब्रस पर आऱोहण के बाद समाप्त हो गई। ऐसी कठिन प्रतियोगिता में पहली बार भाग लेने के बावजूद भारतीय सेना की टीम ह्वाइट डेविल ने काफी अच्छा प्रदर्शन किया। भारतीय टीम सात में से चौथे स्थान पर रही। इस दौरान 14 स्पेशल टास्क पूरे करने थे जिसके लिये हजारों में अंक दिये गए थे। इसके बावजूद भारतीय टीम और चीनी ( दूसरी) और कजाख (तीसरी) के बीच केवल 400 अंकों का ही अंतर था।

कई अड़चनों और पहली बार इस तरह की होड़ में भाग लेने के बावजूद भारतीय टीम ने आश्चर्यजनक  प्रदर्शन किया। इन खेलों में भारतीय सेना की ओऱ से पर्यवेक्षक के तौर पर आर्मी स्काउट मास्टर्स (ब्रिगेडियर प्रेम राज) और एयरबार्न प्लाटून ( मेजर मिहिर शाह ) ने अपने इवेंट पूरे किये और जल्द ही वे स्वदेश लौटेंगे।

इन अंतरराष्ट्रीय सैन्य खेलों का समापन समारोह 11 अगस्त को अलाबिनो पहाड़ियों के बीच सम्पन्न होगा।

Comments

Most Popular

To Top