COURT

इस तरह सुप्रीम कोर्ट की पहली महिला न्यायाधीश बनीं एम. फातिमा बीबी, जानें 6 खास बातें

वकील के रूप में शुरू किया करियर





14 नवम्बर, 1950 को एम. फातिमा बीवी पहली बार एक वकील के रूप में नामांकित हुईं। उन्होंने केरल की निचली न्यायपालिका में अपना करियर शुरू किया। मई, 1958 में केरल अधीनस्थ न्यायिक सेवा में वह मुंसिफ़ के रूप में नियुक्त की गईं। सन् 1968 में अधीनस्थ न्यायधीश के रूप में वह पदोन्नति हुईं। सन् 1972 में वह मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट बनीं तथा वर्ष 1974 में जिला एवं सत्र न्यायालय में एक न्यायाधीश के रूप में नियुक्त हुईं। इसके बाद उन्हें जनवरी, सन् 1980 में आयकर अपील न्यायाधिकरण के न्यायिक सदस्य के रूप में नियुक्त किया गया।

Comments

Most Popular

To Top