Featured

फुरसत में: सेना के सेंसर ऑफिस में काम करता था यह सदाबहार नायक, 4 खास बातें

मेजर की चिट्ठी पढ़ने के बाद छोड़ दी नौकरी





जवानों और अधिकारियों की चिट्ठियां एक से बढ़कर एक होती थी। कोई चिट्ठी रोमांटिक होती थी तो किसी में घर बार की दिक्कतें। कई चिट्ठियां बेहद रोचक भी होती थीं। लेकिन जल्द ही चिट्ठियां पढ़ने के इस काम से देव आनंद बोर हो गए। एक दिन देव आनंद ने एक मेजर की चिट्ठी पढ़ी। अपनी पत्नी को लिखी चिट्ठी में मेजर ने लिखा-मन कर रहा है कि नौकरी छोड़कर तुम्हारे (पत्नी) पास चला आऊं। मेजर ने नौकरी छोड़ी या नहीं पता नहीं लेकिन देव आनंद का मन नौकरी छोड़ने का करने लगा और उन्होंने कुछ ही दिनों में सेना की यह नौकरी छोड़ दी। और चल पड़े अगले मुकाम की तलाश में।

Comments

Most Popular

To Top