Featured

भारत व मिस्र के बीच और गहरा होगा रक्षा सहयोग

भारतीय रक्षा मंत्री सीतारमण को गार्ड ऑफ ऑर्नर
निर्मला सीतारमण (फाइल फोटो)

सीतारमण काहिरा का दौरा करेंगी

नई दिल्ली। भारत और मिस्र के बीच आपसी सामरिक और रक्षा सहयोग को और गहरा करने के लिये रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण जल्द ही काहिरा का दौरा करेंगी। पिछले साल नवम्बर में मिस्र के रक्षा मंत्री जनरल सेडकी सोभी के भारत दौरे में दोनों पक्षों  में  सहयोग के कई मसलों पर सहमति हुई थी। अब दोनों देश सहयोग का दायरा बढ़ाने के लिये सेनाओं के बीच साझा अभ्यास पर भी रक्षा मंत्री सीतारमण के दौरे में सहमत हो सकते हैं।





मिस्र के राजदूत हातेम तागेलदिन ने यहां कापसी कोटिंग्स द्वारा आयोजित एक समारोह के बाद  अनौपचारिक बातचीत में कहा कि रक्षा मंत्री सीतारमण के दौरे के बाद प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के मिस्र दौरे की तैयारी भी चल रही है। प्रधानमंत्री मोदी ने पिछली बार मिस्र के राष्ट्रपति अल सीसी के भारत दौरे में इस पर सैद्धांतिंक सहमति दी थी। अब दोनों देश इसकी तिथियों पर बातचीत कर रहे हैं। राजदूत के मुताबिक भारत और मिस्र के बीच रिश्ते समय की कसौटी पर खरे उतरे हैं। दोनों देशों के बीच निर्गुट आन्दोलन के वक्त से ही निकट का तालमेल चल रहा है।

राजदूत तागेलदिन के मुताबिक रक्षा मंत्री सीतारमण का दौरा मिस्र के रक्षा मंत्री के भारत दौरे के जवाब में होगा। इस दौरान दोनों देशों के बीच रक्षा सहयोग को गहरा बनाने के लिये रक्षा उद्योग के बीच सहयोग और संयुक्त उपक्रम लगाने पर बातचीत हो सकती है। राजदूत ने बताया कि दोनों देशों के बीच रक्षा क्षेत्र में व्यापक गुंजाइश है।

रक्षा मंत्री सीतारमण के काहिरा दौरे में प्रति आतंकवाद के क्षेत्र में सहयोग को गहरा करने पर भी बात होगी। दोनों देशों के सैन्य अफसरों को एक दूसरे के ट्रेनिंग सस्थानों में भी जगह देने के मसले पर बात होगी।

राजदूत के मुताबिक भारत और मिस्र के बीच फिलहाल साढ़े तीन अरब डालर का सालाना व्यापार हो रहा है। मिस्र में भारतीय उद्योगपतियों ने साढ़े तीन अरब डालर के निवेश किये हैं जब कि मिस्र की कम्पनियों ने 15 करोड़ डालर का निवेश किया है।  मिस्र की कापसी कोटिंग्स के भारत में कारखाना खुलने के मौके पर राजदूत ने कहा कि भारत और मिस्र के बीच आर्थिक आदान-प्रदान बढ़ाने की भारी सम्भावना है।

Comments

Most Popular

To Top