Featured

CRPF  के बाइकर्स जवान बीजापुर के ग्रामीणों के लिए बने ‘देवदूत’

सीआरपीएफ जवान

रायपुर। बीजापुर के नक्सल इलाके में केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (CRPF) ने अपने कर्तव्य के अनुरूप सराहनीय कारनामा कर दिखाया  है। यहां जवानों ने गश्ती मोटरसाइकिलों को एबुलेंस के रूप में भी इस्तेमाल कर रहे हैं। सीआरपीएफ- 85 बटालियन के जवान जंगल भरे इलाकों में अक्सर बाइक पर गश्त के लिए निकलते हैं। ये जवान नक्सलियों से मुकाबला करते हुए अगर कभी कोई ग्रामीण इलाज के लिए बाट जोता दिख जाता है वे अपनी बाइक को उस बीमार के लिए एंबुलेंस के तौर पर इस्तेमाल करते हैं।





सीआरपीएफ के जवान बड़े ही सलीके से बीमार को बाइक पर बैठाकर जिला मुख्यालय के अस्पताल तक पहुंचा देते हैं। पिछले 2 वर्षों में बीजापुर-गंगालूर क्षेत्र के करीब एक हजार बीमार ग्रामीणों का इलाज सीआरपीएफ के जवान करा चुके हैं।

सीआरपीएफ- 85 बटालियन के कमांडेंट सुधीर कुमार ने एक अखबार को बताया कि हम गंगालूर के रास्ते पर बड़ी गाड़ियों में चल नहीं सकते क्योंकि वहां विस्फोट का खतरा बना रहता है। इस इलाके में ड्यूटी के दौरान 150 जवान शहीद हो चुके हैं। इस जानलेवा इलाके में अक्सर सर्च ऑपरेशन को पैदल ही अंजाम देना पड़ता है। हमने पाया कि यहां हेल्थ सुविधा के नाम पर कुछ भी नहीं है। बीजापुर के ग्रामीण अस्पताल भी नहीं जा पाते।

Comments

Most Popular

To Top