Featured

एयरपोर्ट्स पर आतंकी हमले रोकने के लिए पर्याप्त सुरक्षा बंदोबस्त नहीं

सीआईएसएफ-जवान

नई दिल्ली। हवाई अड्डों पर आतंकी खतरों के मद्देनजर पर्याप्त सुरक्षा के बंदोबस्त भी नहीं है। सरकार को सौंपी गई रिपोर्ट में सीआईएसएफ ने यह बात कही है। सीआईएसएफ ने सितंबर में केंद्रीय गृह मंत्रालय और एविएशन मिनिस्ट्री को अपनी यह रिपोर्ट सौंपी थी। उसके मुताबिक हवाई अड्डों की सुरक्षा के लिए पर्याप्त संख्या में पुलिसकर्मी तैनात नहीं हैं जिसकी वजह से आतंकी इसे निशाना बना सकते हैं। एयरपोर्ट की सुरक्षा की जिम्मेदारी सीआईएसएफ पर ही है।





सरकारी अधिकारी के मुताबिक रिपोर्ट में कहा गया है कि हवाई अड्डों की सुरक्षा संबंधित राज्य पुलिस की प्राथमिकता नहीं हैं। उनका यह भी कहना था कि हवाई अड्डे पर हमले को रोकना चुनौतीपूर्ण है क्योंकि बड़ी संख्या में लोग हवाई अड्डा क्षेत्र में प्रवेश करते हैं। उन्होंने कहा कि इनमें आतंकवादियों की पहचान करना काफी मुश्किल है। इसलिए शहर की तरफ से सुरक्षा घेरा तैयार करना बहुत जरूरी है और इसके लिए सुरक्षाबलों की ज्यादा जरूरत है। सीआईएसएफ को सभी एयरपोर्ट पर शहर की तरफ से 4 हजार से अधिक सुरक्षाकर्मियों की आवश्यकता है।

डीजी ओपी सिंह ने रिपोर्ट भेजने की पुष्टि की, पर इस बारे में दूसरी जानकारी देने से इनकार कर दिया। ओपी सिंह सीआईएसएफ के डायरेक्टर जनरल हैं। उन्होंने कहा कि हमने सुरक्षा के अलग-अलग बिंदुओं को लेकर रिपोर्ट सौंपी है। उन्होंने रिपोर्ट को गोपनीय बताया। सीआईएसएफ देश के 59 हवाई अड्डों की सुरक्षा करती है। उसकी रिपोर्ट ऐसे वक्त में आई है, जब सरकार देशभर के सभी 100 ऑपरेशन एयरपोर्ट्स की सुरक्षा व्यवस्था सीआईएसएफ को सौंपने की योजना पर काम कर रही है।

सुरक्षा बल ने मौजूदा चीफ ओपी सिंह की अगुवाई में देश के 13 एयरपोर्ट पर केबिन बैगेज को खत्म किया है। वह ऑनलाइन चेक इन भी लागू करने की दिशा में काम कर रहा है।

रक्षक न्यूज की राय

CISF की यह रिपोर्ट चौंकाने वाली है और सुरक्षा इंतजाम की तैयारियों पर तमाम सवाल खड़े करती है। हवाई अड्डों पर सुरक्षा को लेकर राज्य पुलिस भी गंभीर नहीं है, यह भी चिंता की बात है। गृह मंत्रालय और नागर विमानन प्राधिकरण को एक पुख्ता रणनीति तैनाती होगी ताकि फुलप्रूफ सुरक्षा व्यवस्था बन सके।

 

Comments

Most Popular

To Top