North India

आखिर ऐसा क्या हुआ जो महिला कांस्टेबल ने थाने में दे दी जान

कांस्टेबल-अमनप्रीत-कौर

चंडीगढ़। पंजाब के अनुसूचित जाति आयोग (एससी कमीशन) के चेयरमैन राजेश बाघा ने लुधियाना के जोधां में पुलिस थाने के अंदर महिला कांस्टेबल के खुदकुशी मामले में कड़ा संज्ञान लिया है। आयोग ने इस मामले में डॉयरेक्टर ब्यूरो ऑफ इनवेस्टीगेशन को इस मामले में विशेष जांच टीम (एसआईटी) गठित करने के निर्देश दिए हैं। जांच डीआईजी स्तर का अधिकारी करेगा। राजेश बाघा ने कहा कि मामले की सुनवाई 22 जुलाई, 2017 को शुरू की जाएगी।





जोधां थाने की महिला कांस्टेबल अमनप्रीत कौर ने बीते शुक्रवार को मुंशी से दुखी होकर थाने के अंदर ही सुसाइड कर लिया था। उसका आरोप था कि मुंशी उसे बेवजह तंग करता था, जिससे दुखी होकर वह जान दे रही है। उसका शव थाना जोधां के रेस्ट रूम में संदिग्ध हालात में पंखे से लटका मिला था। परिजनों का आरोप है कि उसका कत्ल हुआ है। कमरे में जहां शव लटक रहा था, उसके साथ चारपाई पड़ी थी और अमनप्रीत के पांव जमीन से लग रहे थे। ऐसे में उसकी मौत कैसे हो सकती है ? परिजनों ने इन्साफ के लिए थाने के सामने प्रदर्शन भी किया था।

फिलहाल पुलिस ने थाना जोधां के मुंशी निर्भय सिंह के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 306 के तहत आत्महत्या को मजबूर करने का मामला दर्ज किया है।

थाना प्रभारी मोहन दास ने बताया कि अमनप्रीत कौर की कुछ समय पहले थाना दाखा में बदली हुई थी, लेकिन थाना जोधां में महिला पुलिसकर्मी राजविंदर कौर के छुट्टी पर होने की वजह से अमनप्रीत की ड्यूटी थाना जोधां में लगी थी।

Comments

Most Popular

To Top