North-Central India

बहराइच के जंगलों में मिली वो ‘मोगली गर्ल’ नहीं अलीजा है!

भारत-नेपाल सीमा पर बहराइच जिले में मिली बच्ची

बहराइच: आखिर सच्चाई सामने आ ही गई। रक्षकन्यूज.काम ने उस समय ही साबित कर दिया था कि जिस लड़की को ‘मोगली गर्ल’ कहकर प्रचारित किया जा रहा है वह एक आम लड़की ही है। पुलिस ने खबरें छपने के बाद उस लड़की की मदद तो की ही मीडिया में खबर आने के बाद उसके माता पिता को भी अपनी बच्ची मिल गई। …और अब कथित ‘मोगली गर्ल’ अलीजा जल्द ही अपने माता-पिता के साथ होगी।





दरअसल, बहराइच के कतर्नियाघाट के जंगल में पुलिस को मिली कथित ‘मोगली गर्ल’ के मामले में आज उस समय नया मोड़ आ गया जब उसके माता-पिता उसे ढूंढते हुए जिला अस्पताल पहुंचे और उन्होंने अपने परिवार के फोटो में ‘मोगली गर्ल’ जिसका सही नाम अलीजा है की तस्वीर दिखाई। अलीजा के परिजन उसे उनके सुपुर्द करने की मांग करने लगे। उन्होंने यहां सीएमएस से मिलकर सारी कहानी बताई। फिलहाल, अलीजा को बेहतर निर्वाण संस्था लखनऊ भेजा गया है। अपनी बेटी के लखनऊ में होने की जानकारी मिलने के बाद उसके परिजन लखनऊ रवाना हो गए हैं।

‘मोगली गर्ल’ यानि अलीजा की तस्वीर दिखाते उसके परिजन

 

जौनपुर के थाना मुंगरा बादशाहपुर के मुगराबाद शाहपुर निवासी बाबा हामिद अली अपनी पोती और चाचा भुल्लन ‘मोगली गर्ल’ यानि अलीजा को अपना बता रहे हैं। अपने हाथों में अलीजा की फोटो और गुमशुदगी का पोस्टर लेकर आज हामिद अली और भुल्लन बहराइच जिला अस्पताल पहुंचे। उन्होंने सीएमएस से मुलाकात कर ‘मोगली गर्ल’ के अलीजा होने के प्रमाण दिए।

ये है मोगली गर्ल का सच, अब पुलिस के लिए चुनौती

उन्होंने बताया कि 28 मार्च 2016 को अलीजा अचानक लापता हो गई थी। काफी तलाश के बाद थाना बादशाहपुर में उसकी गुमशुदगी की रिपोर्ट भी दर्ज कराई। उनके मुताबिक, पुलिस ने मामले दर्ज किया और उसका तलाश शुरू किया लेकिन उन्हें नाकामी मिली। काफी पोस्टर आदि भी जगह-जगह चिपकाए गए लेकिन अलिजा का कुछ पता नहीं लगा।

अलिजा उर्फ ‘मोगली गर्ल’ जब गायब हुई थी उस समय की तस्वीर

हामिद अली और भुल्लन ने बताया कि जब उनकी बेटी की तस्वीर और वीडियो मीडिया के माध्यम से सामने आए तो उन्हें फिर से अलीजा को पाने की उम्मीद जगी। ‘मोगली गर्ल’ के परिजन उसके अलीजा होने के प्रमाण लेकर जिला अस्पताल आये थे लेकिन आज सुबह उसे उपचार के लिये निर्वाण संस्था लखनऊ भेज दिया गया है। उनके द्वारा पेश किये गये सबूतों पर विश्वास जताते हुऐ उन्हे संस्था के पते पर लखनऊ भेज दिया है।-डा.हीरा लाल (एसीएमएस जिला अस्पताल, बहराइच)

जिस अलीजा को ‘मोगली गर्ल’ बताया गया है उसकी गुमशुदगी की रिपोर्ट थाने में नहीं दर्ज हुई है और न ही उसकी गुमशुदगी की जानकारी उसके परिजनों ने कभी पुलिस को दी। परिजनों ने उसके गुम जाने के बाद अपने स्तर पर पोस्टर आदि के जरिए उसकी तलाश की लेकिन उन्होंने पुलिस को मामले की जानकारी नहीं दी। अलीजा की गुमशुदगी से जुड़ी कोई तहरीर पुलिस को नहीं दी गई थी।-तहसीलदार सिंह (थानाध्यक्ष मुंगरा बादशाहपुर, जनपद जौनपुर)

Comments

Most Popular

To Top