Police

जेल में VIP ट्रीटमेंट का खुलासा करने वाली IPS का ट्रांसफर

रूपा डी मोदगिल

बैंगलुरु। बैंगलुरु की सेंट्रल जेल में एआईडीएमके प्रमुख शशिकला को VIP ट्रीटमेंट दिए जाने के मामले को सामने लाने वाली आईपीएस अफसर डी रूपा का ट्रांसफर हो गया है। आईपीएस रूपा का ट्रांसफर रोड सेफ्टी एंड ट्रैफिक विभाग में कर दिया गया है, वह अब रोड सेफ्टी ऐंड ट्रैफिक कमिश्नर होंगी।





हाल ही में आईपीएस ऑफिसर रूपा डी मोदगिल ने तमिलनाडु की राजनीति में भूचाल ला दिया था। एआईएडीएमके की प्रमुख नेता शशिकला द्वारा जेल अधिकारियों को दो करोड़ रुपये की घूस देने का खुलासा उन्होंने ही किया। बताया गया कि बैंगलुरू के पराप्पना अग्रहारा स्थित सेंट्रल जेल में बंद शशिकला ने जेल में ही लक्जरी सुविधाएं पाने के लिए जेल अधिकारी को दो करोड़ रूपये की घूस दी थी।

सिस्टम में विरोध में खड़ी होकर बड़ी बड़ी हसितियों से पंगा लेने वाली लेडी आईपीएस रूपा ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि जेल के महानिदेशक ने भी दो करोड़ रुपये की घूस ली है। हालांकि जेल महानिदेशक ने आरोपों को खारिज करते हुए कहा है कि शशिकला को ऐसी किसी भी तरह की विशेष सुविधा नहीं मुहैया कराई जा रही है।उल्लेखनीय है कि पार्टी की सारी शक्तियां जैसे ही शशिकला ने अपने हाथ लीं वैसे ही उन्हें कोर्ट ने एक पुराने मामले में जेल की सजा सुना दी।

रूपा डी मोदगिल

आईपीएस अधिकारी रूपा डी मोदगिल (फ़ाइल फोटो)

जब रुपा ने साल 2000 में UPSC उत्तीर्ण की तो उन्हें 43वां रैंक मिला। आईपीएस की ट्रेनिंग में रूपा डी को उनके बैच में पांचवीं रैंकिंग मिली। रूपा डी अपने बैच की अकेली अधिकारी थी जिन्हें कर्नाटक कैडर मिला। रूपा एक अच्छी निशानेबाज भी हैं, शूटिंग में उन्हें कई अवार्ड्स भी मिल चुके हैं। बेहतरीन काम के लिए उन्हें राष्ट्रपति अवॉर्ड से भी नवाजा गया है।

लेकिन रूपा ने जिस तरह शशिकला से बैर लेकर चर्चा में आईं हैं वह पहली बार नहीं हुआ है। इससे पहले वह उमा भारती को कोर्ट के आदेश पर गिरफ्तार करने को लेकर चर्चा में आ चुकी हैं। इस घटना के दौरान उमा भारती मध्य प्रदेश की मुख्यमंत्री थीं। आईपीएस अफसर रूपा डी तब चर्चा में आईं जब वीआईपी लोगों की सुरक्षा में लगे सैकडों पुलिस वालों को उन्होंने वापस बुला लिया था।

Comments

Most Popular

To Top