North East

चर्चित IPS अफसर इन्दरबीर समेत 5 के खिलाफ विजिलेंस जांच के आदेश

पटियाला। दो किसानों को हत्या के आरोप में फंसाने की धमकी देकर मोटा धन उगाहने के आरोप पर मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने गंभीर रुख अख्तियार करते हुए संगरूर के पूर्व एसएसपी इन्दरबीर सिंह सहित पांच पुलिस अधिकारियों के खिलाफ सतर्कता जांच का आदेश दिया है। इस बीच, इन्दरबीर सिंह के लिए ताजा मुसीबत में एक वरिष्ठ कांग्रेस नेता ने उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज करने की मांग की है। इस नेता का कहना है कि 2015 में जब इन्दरबीर बटाला जिले के SSP थे, उस समय उनके सम्बन्ध ड्रग डीलरों से थे और इसकी जांच होनी चाहिए।





मुख्यमंत्री ने धन उगाही के मामले में जांच पूरी होने तक सभी पांच पुलिस अधिकारियों को पुलिस लाइन भेजने का आदेश दिया है। उन्होंने एसएसपी चंडीगढ़ पद के लिए पैनल से इन्दरबीर सिंह का नाम तब तक के लिए हटाने का भी आदेश दिया है जब तक कि उनको सतर्कता विभाग से हरी झंडी नहीं मिल जाती। यह जानकारी मुख्यमंत्री के मीडिया सलाहकार रवीन ठुकराल ने दी।

बुरा फंसा यह IPS अफसर, धमकी देकर लाखों वसूले : जांच रिपोर्ट

अधिकारियों को उन दो किसानों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए कहा गया है जिन्होंने उगाही की रकम चुकाने के लिए अपनी जमीन बेचने का दावा किया। यह आदेश संगरूर एसएसपी द्वारा की गई प्रारंभिक जांच के बाद आया। प्रारंभिक जांच में एफआईआर दर्ज करने और सतर्कता ब्यूरो से जांच कराने की सिफारिश की गई थी।

इस बीच, इन्दरबीर सिंह के लिए ताजा मुसीबत में, एक वरिष्ठ कांग्रेस नेता ने उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज करने की मांग की है और “2015 में एसएसपी, बटाला के रूप में अपनी पोस्टिंग के दौरान” ड्रग डीलरों से उनके संबंधों की जांच करनी चाहती है।

उगाही के आरोपों का सामना कर रहे पांच पुलिसकर्मियों में से तीन लोंगोवाल एसएचओ  उप-निरीक्षक (एसआई) सिकंदर सिंह, संगरुर जैल पोस्ट प्रभारी सहायक उप-निरीक्षक (एएसआई) बलजिंदर चड्डा और बद्रूखान पुलिस पोस्ट प्रभारी एएसआई गुरुमेल सिंह को AWOL (आधिकारिक छुट्टी के बिना अनुपस्थित) कर दिया गया है। इस सम्बन्ध में संगरूर एसएसपी मंदादीप सिद्धू ने कहा कि उन्हें तीनों से अभी तक कोई छुट्टी आवेदन नहीं मिला है। इसलिए उन्हें ड्यूटी से अनुपस्थित माना जा रहा है। लोंगोवाल एसएचओ के आधिकारिक फोन पर संपर्क करने पर एएसआई रविंदर पाल सिंह ने कहा, “एसएचओ आज सुबह बीमार हो जाने की वजह से पांच दिन की मेडिकल लीव पर हैं।” इसी तरह बद्रूखान पुलिस पोस्ट के मुंशी ने दावा किया कि गुरुमेल ने पांच दिन की मेडिकल लीव ली है।

इन्दरबीर सिंह के खिलाफ एक और शिकायत

डेरा बाबा नानक के विधायक सुखजिंदर सिंह रंधावा ने पुलिस महानिदेशक सुरेश अरोड़ा को एक पत्र अग्रसारित किया है, जिसमें उन्होंने ड्रग संबंधी मामलों में दलालों की भूमिका और उनके जरिए पैसा उगाहने का आरोप लगाया है। रंधावा ने दलालों और इन्दरबीर के लिंक की जांच कराने को कहा है। रंधावा ने यह पत्र 3 अगस्त 2015 को उस समय के पुलिस महानिरीक्षक (IG-बार्डर रेंज) ईश्वर चंद्र को लिखा था। इस बीच पंजाब पुलिस की ओर से आधिकारिक प्रवक्ता ने कहा कि सतर्कता जांच के दौरान रंधावा के लगाए आरोपों को भी देखा जाएगा।

साभार : द ट्रिब्यून

Comments

Most Popular

To Top