Police

पुलिस अधिकारी दंपति की शादी बनी मिसाल, बचत कर दी दान !

मनोज पाटिल और सरिता लायकर

मुंबई। शादी किसी भी व्यक्ति के लिए एक महत्वपूर्ण निर्णय होता है, लेकिन कोल्हापुर के दो पुलिस अधिकारियों मनोज पाटिल और सरिता लायकर ने अपनी शादी के लिए कुछ हटकर सोचा और इस दंपत्ति ने कोल्हापुर जिले में स्थित एक तीर्थस्थल पर नारसोबाची वादी में 28 अप्रैल को बड़े ही साधारण तरीके से शादी की। ये विवाह भले ही साधारण ढंग से संपन्न हुआ, लेकिन इसकी खास बात ये थी कि इस दंपति ने शादी के लिए बचाई गई रकम एक चैरिटी को दान की।





कुछ ही दिन पहले ही मुंबई में मरीन ड्राइव पुलिस स्टेशन में सब इंस्पेक्टर मनोज पाटिल और शहर के सांगली में पोस्टेड सरिता लायकर को उनके माता-पिता द्वारा एक दूसरे से परिचित कराया गया था। पनहाला, जहां हमेशा से ही शादियां एक शाही अंदाज में रचाई जाती हैं, लेकिन कोल्हापुर में पले बढ़े पाटिल को जुलूस, शोर, धूम धड़ाके और शराब वाले भव्य उत्सवों में कोई रुचि नहीं थी। हालांकि, मनोज सरिता को पहली मुलाकात में ही पसंद कर चुके थे, लेकिन वह सरिता से दोबारा मिले, ताकि सरिता उनके विचार जान सकें।

दहेज और फिजूलखर्ची के खिलाफ हैं मनोज

सरिता लायकर के मुताबिक,’मनोज जब मुझसे दोबारा मिले और उन्होंने जो कुछ मुझसे कहा उसे सुनकर मैं हैरान रह गई, क्योंकि मैं भी शानदार और शाही शादियों को देख देखकर बोर हो गई थी। हमारी शादी कैसे हो? ये निर्णय उन्होंने मुझ पर छोड़ दिया। ये आइडिया मैंने अपने परिवार को बताया, तो उन्हें ये बहुत अच्छा लगा’। वहीं, मनोज पाटिल के अनुसार वह हमेशा से ही दहेज के खिलाफ रहे हैं। उन्होंने कहा कि मेरी तीन बड़ी बहनें हैं और उनकी शादी के लिए मेरे पिता ने कितनी मुश्किले उठार्इं। मैं अपनी शादी में न तो फिजूलखर्च चाहता था और न ही इसमें दहेज शामिल करना चाहता था। मेरे पिता एक रिटायर्ड सर्विसमैन हैं, जिन्होंने मुझे इस निर्णय के लिए सपोर्ट किया।

मेहमानों को रिटर्न गिफ्ट में मिले पौधे

इस शादी में इस दंपति के कुछ दोस्त और नजदीकी रिश्तेदार ही शामिल हुए, प्रत्येक रिश्तेदार को शादी में शामिल होने पर रिटर्न गिफ्ट के तौर पर एक पौधा भेंट किया गया जिसे वे अपने आसपास लगा सकें। नवविवाहित जोड़े ने अपनी बचत का रुपया कई चीजों के लिए दान किया, जिसमें नाम फाउंडेशन, जो किसानों और शहीद सैनिकों के परिवारों की मदद के लिए काम करता है, को 50 हजार रुपये दान किए।

देवले के हाईस्कूल, जहां मनोज ने पढ़ाई की इस स्कूल को उन्होंने 30 हजार की सहायता राशि प्रदान की। एक नहर परियोजना के लिए 30 हजार की राशि ग्राम पंचायत को भी दान की। इसके अलावा इस कपल ने 10 हजार की राशि गांव के हनुमान मंदिर को दी तथा पांच हजार कोल्हापुर जिले के पटने गांव के पुस्तकालय के लिए दान किए।

नवदंपत्ति के मुताबिक अभी हमारे पास 50 हजार की राशि बाकी है जिसके लिए हमने अपने वरिष्ठ अधिकारियों से भी सलाह मांगी हैं कि इसे कैसे डोनेट करें। उनके मुताबिक हम भविष्य में भी इस तरह से दान देते रहेंगे। सरिता के मुताबिक मैं मनोज के साथ मिलकर यह बेहतरीन काम कर बहुत खुश हूं।

आधिकारियों ने भी की इस कदम की सराहना

मनोज के वरिष्ठ अधिकारी मनोज कुमार शर्मा (डीसीपी जोन1) के अनुसार मनोज पाटिल एक बहुत अच्छे पुलिस आॅफिसर हैं। ज्वाइंट पुलिस कमिशनर (ला एंड आॅर्डर) देवेन भारती के मुताबिक ये देखकर बहुत अच्छा लग रहा है कि हमारे देश के युवा अधिकारी विवाह जैसे महत्वपूर्ण फैसले पर भी समाज के बारे में सोच रहे हैं और पुरानी चली आ रही प्रथाओं को तोड़ रहे हैं। हमें उम्मीद है कि दूसरों को भी इस तरह से कार्य करने की प्रेरणा मिलेगी ताकि हम अपनी भावी पीढ़ियों के लिए दुनिया में बेहतर स्थान छोड़ पाएं।

Comments

Most Popular

To Top