North India

बुरहान की बरसी: आतंकियों का ‘प्लान’?

श्रीनगर। हिजबुल मुजाहिदीन कमांडर बुरहान वानी की मौत को एक साल पूरा होने से पहले राज्य प्रशासन और पुलिस ने एहतियातन कदम उठाने शुरू कर दिए हैं, ताकि इस दिन आतंकी या अलगाववादी किसी तरह के कार्यक्रम का आयोजन न कर सकें। बता दें कि 8 जुलाई, 2016 को सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में बुरहान मारा गया था। इसके बाद घाटी में कई महीने तक हिंसक घटनाएं होती रहीं और गतिरोध की स्थिति बनी रही।





अलगाववादियां, आतंकी संगठनों में सुगबुगाहट

सूत्रों के अनुसार, अलगाववादियों और आतंकी संगठनों ने इस दिन कार्यक्रम के आयोजन का फैसला किया है। हुर्रियत नेताओं और हिजबुल के सुप्रीम कमांडर सैयद सलाउद्दीन ने 8 जुलाई को घाटी में बंद और पूरे हफ्ते प्रदर्शन आयोजित किए जाने का आह्वान किया है। हिजबुल ने कश्मीरी युवाओं को आतंकी संगठन में शामिल करने के लिए भर्ती अभियान शुरू करने का भी फैसला किया है। इसने पहले से ही दक्षिण कश्मीर के चार जिलों- अनंतनाग, पुलवामा, कुलगाम और शोपियां में यह संदेश फैला दिया गया है कि वे बुराहान वानी के गांव त्राल में 8 जुलाई को जमा हों। हिजबुल का असल लक्ष्य घाटी से कम से कम 200 युवाओं को खुद में शामिल करना और उन्हें पुलिस से हथियार छीनने की ट्रेनिंग देना है।

कई युवक अभी भी हैं लापता

कुछ ग्रामीणों ने बताया कि पिछले कुछ दिनों में रडवानी, खुवानी और कुइमोह गांवों से आधा दर्जन से अधिक युवक गायब हो गए हैं। सुरक्षा एजेंसियों को डर है कि इन युवकों ने संभवतः आतंकी संगठन ज्वाइन कर लिया है। नेशनल पार्टी के एक वरिष्ठ नेता ने बताया कि कुलगांव, रडवानी, खुवानी, कुइमोह, हवाड़ा और हाजी दुमहालपोरा में हिजबुल मुजाहिदीन आतंकी संगठन ज्वाइन करने के लिए गरीब परिवार के बच्चों को एकजुट करने की कोशिश कर रहा है। हिजबुल के बुरहान ग्रुप के 12 खूंखार आतंकियों में गिने जाने वाले अल्ताफ अहमद डार ने 2006 में हिजबुल ज्वाइन किया था। माना जाता है कि युवाओं के भर्ती अभियान में उसी का हाथ है। हिजबुल से जाकिर मूसा के निकलने के बाद अल्ताफ हिज्बुल के डिविजनल कमांडर पोस्ट का दावेदार माना जाता है।

पुलिस की ये है तैयारियां !

उधर, सुरक्षाबलों ने आतंक प्रभावित दक्षिण कश्मीर के हिस्से में ऑपरेशन क्लीन-अप शुरू किया है। कश्मीर पुलिस ने बताया कि हम कानून-व्यवस्था बनाए रखने के लिए हर संभव कोशिश करेंगे।’ सभी जिले विशेषकर दक्षिण कश्मीर के चारों जिलों के एसपी ने आतंकी संगठनों के सदस्यों के खिलाफ अभियान शुरू कर दिया है। चार जिलों की पुलिस कानून-व्यवस्था को बनाए रखने के लिए एहतियातन पत्थरबाजों को हिरासत में ले सकती है। पुलिस ने पत्थरबाजों से कहा है, ‘वे संबंधित पुलिस थानों में जाकर सूचित करें ताकि उन्हें ‘एहतियातन हिरासत’ में लिया जा सके।’

सरकार ने सभी स्कूलों और कॉलेजों के लिए 10 जुलाई तक गर्मी की छुट्टी घोषित कर रखी है। इस दौरान इंटरनेट सेवा प्रदाताओं को गुरुवार से सभी सोशल मीडिया को ब्लॉक रखने के निर्देश दिए गए हैं। अधिकतर अलगाववादी नेताओं को नजरबंद कर दिया गया है।

साभार: टाइम्स न्यूज नेटवर्क

Comments

Most Popular

To Top