North-Central India

26 थानों में इसलिए फंसीं हैं नौ हजार लाइसेंसी बंदूकें

यूपी पुलिस

भिण्ड। अटेर उप चुनाव के दौरान उत्तर प्रदेश के इस जिले के 26 थानों में जमा कराई गई लाइसेंसी बंदूकें करीब डेढ़ माह बीत जाने के बाद भी पुलिस थानों में ही धूल फांक रही हैं। बताया जाता है कि अधिकतर लाइसेंसधारियों का विभिन्न विभागों का लाखों रुपया बकाया है, इसलिए नो ड्यूज लाइसेंसधारियों के लिए सिरदर्द बना हुआ है।





इन बंदूकों की वजह से पुलिस काफी परेशान है और इससे निजात पाने के लिए अब पुलिस अधिकारियों ने जिलाधीश से गुहार लगाई है। दरअसल अटेर उप चुनाव के समय जिलेभर की लाइसेंसी बंदूकों को पुलिस थानों में जमा करवाया गया था। चुनाव तो समाप्त हो गया, लेकिन अब पुलिस की परेशानी शुरू हो गई। चुनाव हुए करीब डेढ़ महीने का समय बीत चुका है लेकिन लाइसेंसधारी लोग अभी तक अपनी बंदूक लेने के लिए थानों में नहीं आए हैं।

पुलिस को इनके रख रखाव के लिए भी खासी मशक्कत करनी पड़ रही है। पुलिस वालों का कहना है कि उनके पास वैसे ही बहुत काम होते हैं, ऐसे में बंदूकों की चौकीदारी ने उनका सरदर्द बढ़ा दिया है। हालात ये है कि कुछ थानों में तो बंदूकों की वजह से बैठने तक की जगह नसीब नहीं है। लिहाजा अब एसपी अनिल कुशवाह ने इस मामले में जिलाधीश इलैया राजा टी से मदद मांगी है। पुलिस की परेशानी को देखते हुए इस बात पर विचार किया जा रहा है कि जो लोग अपने हथियार थाने से लेने नहीं आ रहे हैं उनके लाइसेंस निरस्त करने की कार्रवाई की जाएगी।

Comments

Most Popular

To Top