Police

आईटी शहर की सुरक्षा में मदद के लिए घुड़सवार दस्ता

बेंगलुरु: पुलिस में घोड़ों का इस्तेमाल इस आधुनिक युग में भी अहमियत रखता है। आईटी शहर के रूप मशहूर बेंगलुरु पुलिस के नए प्रयोग में घुड़सवार दस्ते को शामिल किया गया। फिलहाल चार घुड़सवारों का ये दल शहर के चुनिंदा इलाकों में गश्त पर लगाया गया है। वैसे बेंगलुरु पुलिस की योजना अच्छा खासा घुड़सवार दस्ता तैयार करने की है। ये सब पड़ोसी शहर मैसूर की तर्ज पर किया जा रहा है।





घुड़सवार पुलिसकर्मी शहर के कमर्शियल स्ट्रीट, ब्रिगेड रोड और क्यूबन पार्क इलाके में दोपहर बाद तीन बजे से रात नौ बजे तक गश्त करेंगे। किसी भी राहगीर को पुलिस की जरूरत महसूस होने पर वह इनसे मदद मांग सकता है। कार या जीप के बजाय घोड़े पर सवार पुलिसकर्मी की निगाह ज्यादा दूर तक और विभिन्न दिशाओं तक जाती है। ऐसे में इनकी गश्त को ज्यादा प्रभावशाली माना जाता है।

फिलहाल बेंगलुरु पुलिस के अस्तबल में पांच घोड़े है लेकिन एक घोड़े की उम्र 15 साल हो चुकी है। सबसे बड़ी दिक्कत ये भी है कि जिस इलाके में इनसे गश्त कराई जानी है वहां से अश्वारोहण दस्ते का ठिकाना दूर है। पुलिस का ये अस्तबल मैसूर रोड स्थित सिटी आर्म्ड रिजर्व में है। इसलिए वहां से घोड़ों को पहले विशेष वाहन से गश्त वाले इलाकों में लाया जाता है। इनकी अस्तबल में वापसी भी वैसे ही होती है।

पुलिस की योजना घोड़ों के लिए एक और अस्तबल बनाने की भी है। वजह ये भी है कि पुलिस अश्वारोहण दस्ते की तादाद 11 तक करना चाहती है और घोड़े मैसूर पुलिस से मंगाए जाने का प्रस्ताव है।

Comments

Most Popular

To Top