North-Central India

यूपी की धाकड़ एसएसपी मंजिल सैनी को क्यों लगी तगड़ी फटकार?

मंजिल सैनी

लखनऊ। लखनऊ जोन के आईजी ए सतीश गणेश ने आज एसएसपी ऑफिस का निरीक्षण किया निरीक्षण में मिली कई खामियों और गंदगी को देखकर आईजी का पारा हाई हो गया और एसएसपी मंजिल सैनी को जमकर फटकार लगाई।गड़बड़ियों पर तुरंत कार्रवाई करते हुए 5 पुलिसकर्मियों को सस्पेंड करने का आदेश जारी कर दिया गया। इसके अलावा मामला डालीगंज स्थित पुलिस कार्यालय का है। आईजी ने पाया कि परिसर में कई पुलिसकर्मी बिना वर्दी के घूम रहे थे और कुछ काम पर लेट पहुंचे थे। 5 साल में पहली बार किसी आईजी ने लखनऊ पुलिस ऑफिस का निरीक्षण किया।





आईजी-ए -सतीश-गणेश

आईजी ए सतीश गणेश का औचक निरीक्षण

कार्यालय में आईजी को देखते ही तैनात पुलिसकर्मियों में हड़कम्प मच गया। उन्होंने करीब आधे घंटे तक सभी कार्यालयों का बारी-बारी से निरीक्षण किया और कई खामियां पाई। कार्यालयों के कोनों में फाइलें रखने वाली रैक व पुलिस फाइलों पर धूल देखकर आईजी काफी नाराज हुए और उन्होंने एसएसपी मंजिल सैनी को फटकार लगा दी। जब तक आईजी जोन दफ्तर में मौजूद रहें, कार्यालय में तैनात पुलिस कर्मियों के पसीने छूटते रहे। पुलिस कर्मियों को निरीक्षण के दौरान मिली खामियों और गंदगी को जल्द ही साफ करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि जो पुलिसकर्मी काम पर ध्यान न देकर वसूली में लगे रहते है, वह इस समय सिर्फ काम और ड्यूटी पर ज्यादा ध्यान दे।

DGP के निर्देश पर IG ने चलाया अभियान

बता दें कि यूपी में नई सरकार बनने के बाद से कानून-व्यवस्था में सुधार को लेकर पुलिस मुस्तैद नजर आ रही है। सूबे के नए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कई थानों का दौरा किया था।

पुलिस महानिदेशक डीजीपी जावीद अहमद के निर्देश के बाद आईजोन ने 11 जिलों में सबसे पहले लखनऊ कार्यालय का निरीक्षण किया। उन्हें हरदोई, लखीमपुर खीरी, लखनऊ, रायबरेली, सीतापुर, उन्नाव, अम्बेडकरनगर, अमेठी, फैजाबाद और सुल्तानपुर के थानों में निरीक्षण करना है वह कभी किसी भी समय किसी भी जिले में पहुंच सकते हैं।

कब-कब सुर्खियों में रही ये ‘लेडी सिंघम’

  • 2005 बैच की आईपीएस अधिकारी हैं मंजिल सैनी
  • गुरुग्राम के 2008 के बहुचर्चित किडनी रैकेट का भंडाफोड़ किया
  • लखनऊ की पहली महिला एसएसपी हैं
  • लखनऊ के बहुचर्चित श्रवण सैनी हत्याकांड में कई पुलिस अधिकारियों, कर्मचारियों को दंडित किया
  • खुफिया विभाग की रिपोर्ट के मुताबिक़ अगर मुजफ्फरनगर से 2013 में मंजिल सैनी का ट्रांसफर न किया गया होता तो दंगे होते ही नहीं
  • एक कैबिनेट मंत्री के कहने से उनका ट्रांसफर किया गया
  • इसके बाद मंजिल ने सीबीआई में जाने की इच्छा जताई
  • लेकिन अखिलेश यादव ने उनका ट्रांसफर इटावा में किया
  • यहां उन्हें ‘लेडी सिंघम’ कहा जाने लगा
  • मंजिल सैनी देश की पहली विवाहित आईपीएस अधिकारी हैं।

Comments

Most Popular

To Top