North East

‘अभय कमांड सेंटर’ : कंट्रोल रूम से होगा ट्रैफिक मैनेज

पत्रकारों-के-दल

जयपुर। दिल्ली से आए पत्रकारों के दल ने पुलिस आयुक्त कार्यालय जयपुर में नवनिर्मित अत्याधुनिक ‘अभय कमांड सेंटर’ का अवलोकन किया। पुलिस कमिश्नर संजय अग्रवाल ने बताया कि पत्रकारों को अवलोकन के दौरान आमजन की सुरक्षा व सहायता के संबंध में अत्याधुनिक तकनीकी संसाधनों, वीडियो सर्विलांस, 100 नंबर डायल सिस्टम, डिस्पेचर व फोरेंसिक तकनीक तथा आईटीएमएस सिस्टम ‍व कार्यप्रणाली के बारे में विस्तृत जानकारी दी। साथ ही महिला सुरक्षा एप, महिला गरिमा, पुलिस व्हाट्सएप हेल्पलाइन एवं सीनियर सिटीजन हेल्पलाइन तथा एप के बारे में भी जानकारी दी।





उन्होंने बताया कि इस कंट्रोल रूम के जरिए अपराध नियंत्रण के साथ-साथ यातायात प्रबंधन में भी मदद मिलेगी। अतिरिक्त पुलिस आयुक्त नितिन दीप ब्लगन ने पत्रकारों को अभय कमांड सेंटर के विभिन्न भागों का भ्रमण करवाया और प्रत्येक भाग के कार्य की जानकारी दी।

पुलिस-आयुक्त-दफ्तर

पत्रकारों को अवलोकन के दौरान आमजन की सुरक्षा व सहायता के संबंध में अत्याधुनिक तकनीकी संसाधनों की जानकारी देते अधिकारी

पुलिस उपायुक्त (मुख्यालय) गौरव श्रीवास्तव ने बताया कि जयपुर शहर में लगे कुल 450 सीसीटीवी कैमरों की रिकॉर्डिंग देखने के लिए कंट्रोल रूम में एलसीडी स्क्रीन के साथ ही नये कम्प्यूटर और सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल किया गया है। इससे इसकी कार्यक्षमता दो गुनी हो गई है।

शहर में आने-जाने के प्रमुख मार्गों व हाइवे पर लगे सीसीटीवी कैमरों को जोड़ा गया है। इन कैमरों में नाइट विजन भी है। इनकी रिकॉर्डिंग एक महीने तक सुरक्षित रखी जाएगी। वारदात करके भाग रहे बदमाश की रिकार्डिंग आने पर फेस डिटेक्शन सॉफ्टवेयर से उसकी पहचान की जा सकती है। कंट्रोल रूम में कॉल रिसीव करने के लिए 16 रिसीवर कार्य कर रहे है। वायरलेस सिस्टम को भी अपग्रेड किया गया है।

पुलिस उपायुक्त (मुख्यालय) ने संपत्ति संबंधी अपराधों की रोकथाम के लिए सूचना एवं प्रौद्योगिकी विभाग के सहयोग से तैयार किए गए एवं राष्ट्रीय स्तर पर पुरस्कृत क्राइम हॉट स्पॉट एनालिसिस सॉफ्टवेयर का प्रजेंटेशन भी दिया।

Comments

Most Popular

To Top