North India

पंजाब में रही नहीं लेकिन चाहती है IPS का पंजाब कैडर, किरण बेदी हैं प्रेरणा

हितिका वसल

जलंधर। सिविल सर्विस परीक्षा में 121वीं रैंक हासिल करने के बाद होशियारपुर जिले के दसुआ की रहने वाली हितिका वसल जल्द ही आईपीएस की ट्रेनिंग करेंगी। हितिका ने समाजशास्त्र में परास्नातक किया है और वह किरण बेदी को अपनी प्रेरणा मानती हैं।





मैनचेस्टर से किया मास्टर्स

जलंधर के प्रसिद्ध बिल्डर की बेटी ने बहुत ही कम समय पंजाब में बिताया है। उनकी अधिकतर पढ़ाई घर के बाहर हुई है। उन्होंने कक्षा दस तक सेक्रेड हार्ट स्कूल डलहौजी से पढ़ाई की और चंडीगढ़ के डीएवी स्कूल से बारहवीं पास की। दिल्ली विश्वविद्यालय से समाजशास्त्र में ग्रेजुएशन करने के बाद मास्टर्स के लिए वह ब्रिटेन के मैनचेस्टर चली गईं। वर्ष 2014 में वह पंजाब वापस लौटी। इसके कुछ ही समय बाद वह परीक्षा के लिए होशियारपुर के दसुआ आ गईं, इस दौरान वह सिविल सर्विस की कोचिंग के लिए चंडीगढ़ भी रहीं। हितिका की मां एक स्कूल सीरीज की मालकिन हैं।

हितिका वसल अपने भाई और माता-पिता के साथं

किरण बेदी को मानती हैं अपनी प्रेरणा

हितिका के अनुसार, वह देश की पहली महिला आईपीएस किरण बेदी को अपनी प्रेरणा मानती हैं। उनके मुताबिक, ‘किरण बेदी ने पुलिस के लिए बहुत सारे अनुकरणीय कार्य किए हैं और वह अब भी पुदुचेरी की उपराज्यपाल के रूप में अच्छा कार्य कर रहीं हैं। उन्होंने कहा, ‘जब से मुझे मालूम चला है कि मुझे 121वीं रैंक मिली है और पंजाब में कोई 100 से 121 रैंक तक का प्रतियोगी नहीं है, तो मुझे उम्मीद है कि मुझे पंजाब कैडर मिल सकता है। ये ज्यादा अच्छा है कि अपने ही राज्य की सेवा करने में सक्षम होऊंगी।’

हितिका वसल

मैनचेस्टर में पढ़ाई के दौरान अपने दोस्तों के साथ हितिका

बचपन से ही था सिविल सर्विस में रुझान

उन्होंने आगे बताया कि ‘मेरे माता पिता और भाई पहले से ही बिजनेस की देखभाल कर रहे हैं, लेकिन मुझे बचपन से ही सिविल सर्विस में जाने में दिलचस्पी थी। मैं हमेशा से ही समाजसेवा करना चाहती थी। यही कारण है कि मैंने ग्रेजुएशन और पोस्ट ग्रेजुएशन की पढ़ाई में समाजशास्त्र विषय का चयन किया। मैं अगस्त में अपने प्रशिक्षण के लिए मसूरी और बाद में हैदराबाद जाने के लिए पूरी तरह तैयार हूं।’

हितिका वसल

मेनचेस्टर में हितिका

Comments

Most Popular

To Top