North India

पूर्व डीजीपी सिंगल के लिए खाली रखा गया CIC पद !

यशपाल-सिंगल

चंडीगढ़। पिछले साल जाट आरक्षण आंदोलन में हिंसा के बाद हरियाणा के पुलिस महानिदेशक (DGP) पद से हटाए गए यशपाल सिंगल राज्य के नए मुख्य सूचना आयुक्त (CIC) होंगे। मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर की अध्यक्षता में हुई चयन समिति की बैठक में सिंगल का बिना किसी विरोध के चयन कर लिया गया। बैठक में विपक्ष के नेता अभय सिंह चौटाला व पीडब्ल्यूडी मंत्री राव नरबीर भी मौजूद थे। रिटायर्ड एचसीएस अधिकारी नरेंद्र यादव राज्य के सूचना आयुक्त होंगे।





…तो सरकार इंतज़ार कर रही थी सिंगल के रिटायरमेंट का 

दिलचस्प यह है कि CIC का पद पिछले साल पूर्व नौकरशाह नरेश गुलाटी के रिटायरमेंट के बाद से खाली था। अभी तक CIC का अतिरिक्त प्रभार नरेश की पत्नी सूचना आयुक्त और पूर्व मुख्य सचिव उर्वशी गुलाटी के पास था जो हाल ही में रिटायर हुई हैं। हरियाणा विधानसभा में नेता विपक्ष अभय चौटाला का आरोप है कि सरकार ने गुलाटी के रिटायर होने के बाद जानबूझ कर इस पद को खाली रखा गया। चौटाला ने कहा, “तथ्य यह है कि सरकार ने शुरुआत से ही यह संकेत दे दिया था कि वह सिंगल के रिटायरमेंट का इंतजार कर रही है।”

एक केंद्रीय व प्रदेश सरकार के एक मंत्री के विरोध के बावजूद नरेंद्र यादव के नाम को स्वीकृति दी गई है। इन दोनों मंत्रियों के विरोध के कारण ही नरेंद्र यादव हरियाणा लोक सेवा आयोग के सदस्य पद की शपथ लेने से वंचित हो गए थे। बता दें कि सिंगल को जाट आरक्षण आंदोलन में हिंसा पर उत्तर प्रदेश के पूर्व डीजीपी प्रकाश सिंह की रिपोर्ट के आधार पर डीजी पद से हटाया गया था।

मुख्य सूचना आयुक्त के पद के लिए आईएएस और आईपीएस के बीच खींचतान में आईपीएस लॉबी बाजी मार ले गई है। बैठक में अभय चौटाला द्वारा न तो सिंघल का विरोध करने की सूचना मिली है और न ही उन्‍होंने यादव के नाम पर कोई आपत्ति जताई है।

गौरतलब है कि हरियाणा के मुख्य सूचना आयुक्त पद के लिए तीन नामों का पैनल तैयार किया गया था। इसमें यशपाल सिंगल का नाम सबसे ऊपर था। आईएएस अधिकारी राजन गुप्ता का इस पैनल में नाम नहीं था, लेकिन राजन उन दावेदारों में शामिल थे, जिन्होंने मुख्य सूचना आयुक्त बनने के लिए आवेदन किया था।

यशपाल सिंगल के डीजीपी पद से हटने के बावजूद सरकार के खिलाफ एक भी शब्द नहीं बोलने और उनको संघ परिवार से होने का पुरस्कार मिला है। यशपाल सिंगल फिलहाल डीजी (जेल) के पद पर कार्यरत हैं। मुख्य सूचना आयुक्त व राज्य सूचना आयुक्त के नामों को मंजूरी मिलने के बाद आयोग में सभी पद भर गए हैं।

Comments

Most Popular

To Top