North-Central India

देश में पहली बार IS आतंकी का एनकाउंटर, मारा गया सैफुल्लाह, कैसे ATS ने संभाला मोर्चा

यूपी-एटीएस

लखनऊ। लखनऊ के काकोरी में हुई मुठभेड़ ने साफ कर दिया कि ISIS के आतंकी लखनऊ को अपनी पनाहगाह बना रहे हैं। ISIS के आतंकी से लखनऊ में पहली बार मुठभेड़ हुई। इतना ही नहीं, देश में पहली बार IS आतंकी का एनकाउंटर किया गया। बताया गया कि मारा गया आतंकी मध्य प्रदेश में मंगलवार को भोपाल-उज्जैन पैसेंजर ट्रेन में हुए विस्फोट मामले का आरोपी सैफुल्लाह है। इससे पहले भी यहां कई आतंकी पकड़े जा चुके हैं। लेकिन इस बार जिस तरह असलहों से लैस आतंकी राजधानी में डेरा जमाए थे, उसने खुफिया एजेंसियों के होश उड़ा दिए हैं।





इस पहले कभी ATS और लखनऊ पुलिस को इतने घंटे तक मशक्कत नहीं करनी पड़ी। एनकाउंटर लंबा चलने पर लखनऊ एनएसजी को तैयार रहने को कहा गया था। खुफिया एजेंसी का मानना है कि अगर वे अपने इरादों में कामयाब हो जाते तो बड़ी तबाही होती।

यूपी एटीएस ने यदि समय रहते खूंखार आतंकी संगठन ISIS के नेटवर्क को नेस्तनाबूत नहीं किया होता, इसका खामियाजा पूरे उत्तर प्रदेश को भुगतना पड़ता। ISIS के इन आतंकियों की साजिश पूरे यूपी को दहलाने की थी। खुलासा हुआ है कि ‘आईएसआईएस खुरासान मॉड्यूल’ के तहत बाराबंकी के एक कस्बे में 27 मार्च को बम विस्फोट की योजना बनी थी, जिसे भोपाल ट्रेन ब्लास्ट के बाद विफल कर दिया गया।

ATS कार्रवाई की हर पल की जानकारी

  • समय: दोपहर 3:18 मिनट
  • स्थान: हाजी कालोनी मस्जिद के पास
  • 4:00 बजे: मकान में छिपे आतंकवादी ने फायरिंग शुरू की।
  • 4:15 बजे: इस वक्त एटीएस कमांडो दल के सदस्य पहुंचे और आतंकी से मुठभेड़ शुरू।
  • 5:00 बजे: धुंए वाला केमिकल लेकर पहुंची फोरेंसिक टीम और कार्रवाई शुरू।
  • 6:00 बजे: छत काटने के लिए कटर मंगाया, इससे एटीएस ने फायरिंग शुरू की।
  • 6.30 बजे: फायरिंग बंद हुई तो छेद से झांकने पर खून से लथपथ दिखा आतंकी।
  • 8:00 बजे: एटीएस को एक और संदिग्ध दिखा।
  • देर रात तक लगभग 11 घंटे तक आतंकी और एटीएस में फायरिंग जारी रही।

 खुफिया एजेंसी से मिली जानकारी

ISIS आतंकी

इस घर को बनाया था पनाहगाह

खुफिया एजेंसी से मिली जानकारी के मद्देनज़र एटीएस ने छापेमारी की थी। घर पहुंचने पर उन्होंने जब दरवाजा खटखटाया तो अंदर मौजूद शख्स ने फायरिंग शुरू कर दी। जिसके बाद एटीएस ने ठाकुरगंज की हाजी कॉलोनी के इस घर की घेराबंदी कर दी।

एडीजी (लॉ एंड ऑर्डर) दलजीत सिंह चौधरी ने बताया कि मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश में खुरासान माड्यूल के 6 सदस्यों को गिरफ्तार किया गया है। भोपाल-उज्जैन पैसेंजर में बम ब्लास्ट की साजिश कानपुर के जाजमऊ इलाके के रहने वाले सैफुल्लाह ने रची थी। इसके लिए लखनऊ के काकोरी थाना क्षेत्र के हाजी कालोनी में किराए का मकान लेकर तैयारी की गई।

मीडिया के मुताबिक, इस साजिश में सैफुल्लाह के अलावा कानपुर केएडीए कालोनी निवासी दानिश अख्तर उर्फ जफर, अलीगढ़ के इन्द्रानगर निवासी सैयद मीर हुसैन उर्फ हम्जा और कानपुर के जाजमऊ निवासी आतिश मुजफ्फर के अलावा कुछ अन्य सदस्य भी शामिल थे। सैफुल्लाह और एक साथी को छोड़ यही तीनों मध्य प्रदेश विस्फोट ऑपरेशन में गए थे। विस्फोट के बाद मध्य प्रदेश पुलिस ने तीनों को पिपरिया से गिरफ्तार किया।

पुलिस को थी जानकारी

यूपी एटीएस और ISIS आतंकियों की मुठभेड़ के दौरान एक बड़ा खुलासा यह हुआ कि 3 महीने से काकोरी पुलिस को आतंकियों के बारे में जानकारी थी। इस बारे में एक स्थानीय युवक ने पुलिस को जानकारी दी थी। इसके बावजूद पुलिस ने आतंकियों का सत्यापन नहीं कराया। आतंकी लखनऊ के हाजी कॉलोनी स्थित मकान में 3 महीने से किराए पर रह रहे थे। तीनों की जानकारी के बाद भी पुलिस ने उनका सत्यापन नहीं कराया।

शुरू से ही संदिग्ध थीं गतिविधियां

पड़ोस में रहने वाले अकरम ने बताया कि करीब तीन महीने से तीनों आतंकी मकान में किराये पर रह रहे थे। इनका अक्सर देर रात मकान में आना होता था और तड़के ही चले जाते थे। ये लोग बड़े-बड़े भरे हुए बैग भी अपने साथ लेकर आते थे। आस पड़ोस के लोगों से उनका कोई तालमेल भी नहीं था। तीनों लड़के एक ही कमरे में रहते थे। देर रात तक इनके कमरों की लाइट भी जलती रहती थी। इनकी गतिविधियां शुरू से ही संदिग्ध थीं।

Comments

Most Popular

To Top