East India

नक्सलियों की कमर तोड़ने के लिए मिले चार राज्यों के DGP

नक्सलियों के खिलाफ रणनीति

पटना/रांची। सुकमा में हाल में हुए नक्सली हमले को देखते हुए बिहार में नक्सलियों की रणनीति को पूरी तरह नाकाम करने के लिए विशेष अभियान चलाने का चार राज्यों की सरकारों ने निर्णय लिया है। बिहार राज्य मुख्यालय सूत्रों ने शनिवार को यहाँ बताया कि पुलिस महानिदेशक की अध्यक्षता में हुई इस बैठक में चार राज्यों के डीजीपी ने हिस्सा लिया। विभिन्न राज्यों के वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों ने बैठक में नक्सलियों से निपटने और उनके खिलाफ सघन अभियान चलाने का निर्णय लिया। साथ ही अपने अपने तरीके से उपाय भी सुझाये।





सूत्रों ने बताया कि इस अभियान में सीमावर्ती राज्यों की पुलिस एक दूसरे को सहयोग करेगी, इसको लेकर भी सभी पुलिस अधिकारियों ने संकल्प दोहराया। नक्सलियों के खिलाफ जंगलों में चलाये जाने वाले ऑपरेशन पर विशेष रणनीति बनाने पर भी गहन विचार विमर्श किया गया। नक्सलियों के विरुद्ध अभियान में लगे पुलिस कर्मियों की सुरक्षा को लेकर भी व्यापक तौर पर चर्चा की गई और इसके लिए सभी ने मंत्रणा की।

उल्लेखनीय है कि सुकमा में हुए नक्सली हमले के बाद सभी प्रभावित राज्य पूरी तरह अलर्ट रहते हुए नक्सलियों के खिलाफ योजनाबद्ध तरीके से कार्रवाई करने की योजना बना रहे हैं।

इस बैठक में झारखंड के डीजीपी डीके पांडेय, उड़ीसा के डीजीपी कुंवर ब्रजेश सिंह, पश्चिम बंगाल के डीजीपी सुरजीत कर पुरकायस्थ और बिहार के डीजीपी पीके ठाकुर शामिल हुए। पुलिस अधिकारियों के साथ में सीआरपीएफ, सीआईएसएफ और आईबी के अधिकारी भी मौजूद रहे। पुलिस सूत्रों के अनुसार बैठक में सीमा पर उग्रवादियों से मजबूती से लड़ने की रणनीति बनाई गई।

बैठक से लौटकर आने के बाद रांची में झारखंड के डीजीपी डीके पांडेय ने संवाददाताओं को बताया कि बिहार से जुड़े राज्यों झारखंड, बंगाल और उड़ीसा के रास्ते उग्रवाद और शराब माफियाओं पर अंकुश लगाने के लिए भी उच्चस्तरीय बैठक में विचार किया गया। साथ ही एक दूसरे से बेहतर समन्वय स्थापित कर उग्रवादियों के खिलाफ अभियान चलाने, अपराधियों और उग्रवादियों का डाटा साझा करने सहित कई अन्य मुद्दों पर सहमति बनी।

Comments

Most Popular

To Top