North India

… तो अब साबित हो गया DGP विर्क को फंसाया था विजिलेंस ब्यूरो ने

एसएस विर्क

चंडीगढ़। पंजाब के पूर्व पुलिस महानिदेशक (DGP) एसएस विर्क को आय से अधिक संपत्ति के मामले में करीब 10 साल बाद बड़ी राहत मिली है। स्पेशल कोर्ट ने उनके खिलाफ दर्ज किए गए भ्रष्टाचार के मामले को निरस्त करने की रिपोर्ट मंजूर कर ली । 1970 बैच के आईपीएस अधिकारी विर्क के विरुद्ध 8 सितम्बर 2007 को केस दर्ज किया गया था। मजे की बात यह है कि जिस विजिलेंस ब्यूरो ने उन्हें गिरफ्तार किया था अब वही विजिलेंस ब्यूरो उन्हें निर्दोष बता रहा है।





विजिलेंस ब्यूरो ने 27 फरवरी को मामला ख़त्म करने संबंधी अर्जी कोर्ट में डाली थी। विजिलेंस ब्यूरो ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि विर्क के खिलाफ ठोस सबूत नहीं मिले हैं। पिछली सुनवाई में विजिलेंस ब्यूरो के सहायक महानिरीक्षक सुरजीत सिंह ने कहा था कि विर्क के खिलाफ केस निरस्त करने में विजिलेंस को कोई आपत्ति नहीं है।

सूत्रों के मुताबिक़ विर्क ने पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट में 16 याचिकाएं दाखिल की थीं जिसमें उन्होंने खुद को बेगुनाह बताया था। 2007 में उनको अपनी पोजीशन का नाजायज फ़ायदा उठाने और अपनी आय से ज्यादा संपत्ति जुटाने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था। उनके खिलाफ अगस्त 2008 में चार्जशीट फाइल की गई थी। उन पर आरोप था कि विभिन्न बैंकों खातों में उनकी 3.12 करोड़ की बेनामी रकम पाई गई है। उन्हें भ्रष्टाचार निरोधक क़ानून के अलावा आईपीसी की धारा 168, 169, 216, 218, 420, 447, 448, 467, 468, 471, 506 और 120 के तहत गिरफ्तार किया गया था।

विर्क को फरवरी 2007 में राज्य विधानसभा के चुनाव से पहले चुनाव आयोग ने पुलिस महानिदेशक पद से हटा दिया था। तब पंजाब में कांग्रेस सत्ता में थी और अकाली-भाजपा गठबन्धन विपक्ष में था। तब विपक्ष ने विर्क के खिलाफ भ्रष्टाचार के आरोप लगाए थे। महाराष्ट्र कैडर के विर्क को सितम्बर 2009 के पहले हफ्ते में पंजाब विजिलेंस ब्यूरो के अधिकारियों ने दिल्ली से गिरफ्तार किया था। बता दें कि विर्क पंजाब के पहले DGP हैं जिन्हें गिरफ्तार किया गया था। दिलचस्प है कि अब सत्ता में कांग्रेस वापस आ गई है और विर्क के खिलाफ केस भी खत्म हो गया है। हालांकि, मार्च 2009 में वह अपने मूल कैडर यानी महाराष्ट्र चले गए और उन्हें पुलिस महानिदेशक बनाया गया। तब महाराष्ट्र के गृह मंत्री जयंत पाटिल ने कहा था कि विर्क को इसलिए DGP बनाया गया है क्योंकि उनका ट्रैक रिकार्ड बहुत अच्छा है।

Comments

Most Popular

To Top