North-Central India

दिल्ली पुलिस ने बनाया ग्रीन कॉरिडोर, बचाई मरीज की जान

ग्रीन कॉरिडोर

नई दिल्ली। दिल्ली पुलिस का मानवता से भरा चेहरा एक बार फिर सामने आया है। दिल्ली पुलिस को जैसे ही सूचना मिली कि एक व्यक्ति की जान बचाने के लिए पुणे से लाए जा रहे दिल व लीवर को पालम एयरपोर्ट से कैंट स्थित आरआर हॉस्पिटल तक पहुंचाना है तो पुलिस ने चंद मिनट में ग्रीन कॉरिडोर तैयार किया। इस तरह एंबुलेंस ने साढ़े सात किलोमीटर की दूरी महज सात मिनट में तय कर ली।





पालम से आरआर हॉस्पिटल पहुंचाना था दिल व लीवर

संयुक्त पुलिस आयुक्त (यातायात) गरिमा भटनागर के अनुसार बुधवार सुबह सूचना मिली कि पुणे में एक महिला सैन्यकर्मी शिवानी पवार की मौत हो गई है और उनका दिल व लीवर एक व्यक्ति की जान बचाने के लिए दिल्ली लाया जा रहा है। विमान को पौने आठ बजे पालम एयरपोर्ट पर पहुंचना था। वहां से उसे एंबुलेंस द्वारा हॉस्पिटल तक पहुंचाना था। सूचना मिलने पर तत्काल ग्रीन कॉरिडोर बनाया गया। एयरपोर्ट से आरआर अस्पताल के बीच सभी स्थानों पर एक के बाद एक यातायात को नियंत्रित किया और एंबुलेंस महज सात मिनट में अस्पताल तक पहुंच गई।

पहले भी बनाया है ग्रीन कॉरिडोर

यातायात पुलिस ने इससे पहले पांच जुलाई को ग्रीन कॉरिडोर के जरिये चंडीगढ़ से IGI एयरपोर्ट पहुंचे लीवर व दिल को 18 किलोमीटर की दूरी केवल 23 मिनट में तय कर एम्स पहुंचाया था। सात मार्च को भी प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) ने एक नवजात बच्ची को बचाने के लिए ग्रीन कॉरिडोर बनाने के लिए यातायात पुलिस को निर्देश दिया था। जिसके  बाद असम के डिब्रूगढ़ से एयर एंबुलेंस से दिल्ली लाई गई नवजात को एयरपोर्ट से ग्रीन कॉरिडोर बनाकर गंगाराम अस्पताल में भर्ती कराया गया था। इसमें 13 किलोमीटर का सफर 14 मिनट में तय कर बच्ची को अस्पताल पहुंचाया गया था।

Comments

Most Popular

To Top