North-Central India

जानिए, घोड़े के पीछे क्यों दौड़ी मेरठ की पुलिस

उन्मादी-घोड़ा

मेरठ। ब्रह्मपुरी थाना क्षेत्र में बुधवार की सुबह से दोपहर तक एक बेलगाम घोड़े ने जमकर उत्पात मचाया। घोड़ा कई घंटे तक क्षेत्र की सड़कों पर इधर से उधर दौड़ता रहा। इस दौरान उसने कई लोगों को काटते हुए घायल कर दिया। मामले की जानकारी के बाद सीओ ब्रहमपुरी सहित एसओ, वन विभाग के कर्मचारी और पुलिसकर्मी घोड़े के पीछे दौड़ते रहे, लेकिन घोड़ा किसी के काबू में नहीं आया। बाद में एक युवक ने हिम्मत दिखाते हुए घोड़े को पकड़ा, तो एसओ ने उसे पांच सौ रूपये का इनाम दिया।





धमाके की आवाज से बिदका घोड़ा

दरअसल, बुधवार की सुबह तीन-चार घोड़े गणेशपुरी सब्जीमंडी के पास टहल रहे थे। एकाएक धमाके की आवाज सुनकर एक घोड़ा बिदक गया और उसने उत्पात मचाना शुरू कर दिया। घोड़े ने अपने घर के बाहर बैठी एक युवती के बाल उखाड़ लिए, जिसके बाद जब क्षेत्र के लोगों ने शोर मचाते हुए उसे दौड़ाया तो वह माधवपुरम की ओर भाग निकला। इसके बाद उसने सड़क पर चल रहे लोगों पर हमला बोलना शुरू कर दिया, जिससे क्षेत्र में भगदड़ मच गई। मामले की जानकारी मिलने पर सीओ ब्रह्मपुरी धर्मेन्द्र चौहान, इंस्पेक्टर ब्रह्मपुरी दिनेश सिंह और वन विभाग की टीम भी मौके पर पहुंच गई। सबने मिलकर घोड़े को काबू में करने का भरसक प्रयास किया, लेकिन बेलगाम घोड़ा माधवपुरम और सरस्वतीलोक में उत्पात मचाता हुआ दिल्ली रोड जा पहुंचा।

किसी के कंधे तो किसी के गाल और गर्दन पर काटा

इस दौरान उसने किसी के कंधे तो किसी के गाल और गर्दन पर काटते हुए कई लोगों को घायल कर दिया। हालात यह हुए कि घोड़ा जिधर भी जाता उधर, भगदड़ मच जाती। पीछे-पीछे आती भीड़ से रास्ते से हटने की गुजारिश करते रहे। आखिरकार घंटो के हंगामे के बाद जेनिस पैलेस के निकट एक तांगा चालक युवक ने घोड़े को काबू में करते हुए उसे बांध दिया। जिसके बाद अधिकारियों ने राहत की सांस ली।

इंस्पेक्टर ब्रहमपुरी ने घोड़े को काबू में करने वाले रिजवान उर्फ प्रधान निवासी फतेहउल्लापुर को पांच सौ रूपये का नगद इनाम देते हुए उसकी पीठ थपथपाई। घोड़े के मालिक का पता लगाया जा रहा है। उधर, घोड़े के काटने से घायल हुए सतीश पुत्र रघुवीर व अन्य को अस्पताल में भर्ती किया गया है।

Comments

Most Popular

To Top