Police

महिलाओं को ऑटो रिक्शा चलाने की ट्रेनिंग दे रही है छत्तीसगढ़ पुलिस

छत्तीसगढ़। छत्तीसगढ़ पुलिस महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने की भरपूर कोशिश कर रही है। इसके लिए दुर्ग जिला पुलिस ने एक नया कदम उठाया है जिसके तहत महिलाओं को ऑटो चलाने की ट्रेनिग दी जा रही है। ऑटो चलाने के इस प्रशिक्षण के बाद महिलाओं को रोजगार भी उपलब्ध कराया जाएगा। इन महिलाओं को ऑटो चलाने की ट्रेनिंग के अलावा सिक्योरिटी गार्ड की ट्रेनिंग भी दी जाएगी।





करीब दो सौ महिलाएं सीखेंगी ऑटो चलाना

दुर्ग पुलिस की रक्षा टीम द्वारा महिलाओं को आत्म निर्भर बनाने की पहल के तहत अलग-अलग बैच में करीब दो सौ से अधिक महिलाओं को अनुभवी और प्रोफेशनल ट्रेनर द्वारा ऑटो  रिक्शा चलाने की ट्रेनिंग दी जा रही है। पुलिस विभाग की मदद से ही इन महिलाओं का ड्राइविंग लाइेंस भी बनवाया जा रहा है। दुर्ग जिले की रक्षा टीम द्वारा ऑटो चलाने का प्रशिक्षण पाने वाली महिलाएं शहर की सड़कों पर ऑटो चलाएंगी। यही नहीं, महिलाओं द्वारा चाले जा रहे ऑटो में में महिला यात्रियों को विशेष प्राथमिकता दी जाएगी।

महिलाओं को सुरक्षित व आत्मनिर्भर बनाने को उठाया कदम

दुर्ग जिला की रक्षा टीम प्रभारी मोनिका पांडेय के अनुसार इससे जरूरतमंद महिलाओं को रोजगार का साधन उपलब्ध होगा साथ ही देर शाम या रात यात्रा करने वाली महिला यात्री भी खुद को सुरक्षित महसूस करेंगी। मोनिका पांडेय ने कहा कि पुलिस द्वारा जरूरतमंद महिलाओं को सिक्योरिटी गार्ड के तौर पर भी ट्रेंड किया जा रहा है। इसके तहत शुरुआती दौर में 30 महिलाओं को सिक्योरिटी गार्ड की ट्रेनिंग दी जाएगी इसके लिए 17 दिसंबर रविवार को महिलाओं का रजिस्ट्रेशन भी कराया गया है।

Comments

Most Popular

To Top