Army

अब तक का सबसे बड़ा सर्च ऑपरेशन, 3000 जवानों ने 20 गांवों को घेरा

कश्मीर-में-सर्च-ऑपरेशन

श्रीनगर। दक्षिण कश्मीर में हाल की आतंकी घटनाओं के बाद सुरक्षाबलों ने आतंकियों की धरपकड़ के लिए अभियान तेज कर दिया है। शोपियां में आज (4 मई) आतंकियों की मौजूदगी की सूचना मिलते ही पुलिस, सेना और CRPF के तीन हजार जवानों ने संयुक्त रूप से दक्षिण कश्मीर के शोपियां के 20 से ज्यादा गांवों की घेराबंदी कर तलाशी अभियान शुरू कर दिया है।





बीते 18 सालों में कश्मीर में किसी इलाके में एक साथ दो दर्जन से ज्यादा गांवों की घेराबंदी कर तलाशी का यह पहला मामला है। इस तरह के तलाशी अभियान 1990 के दशक में ही होते थे। घेराबंदी के तुरंत बाद सुरक्षा बलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़ भी शुरू हो गई है। स्थानीय युवा मुठभेड़ के बारे में जानकारी प्राप्त होते ही अपने घरों से बाहर निकल आए तथा सुरक्षाबलों पर पत्थरबाजी करने लगे जिसके चलते सुरक्षाबलों को उन पर हल्का बल प्रयोग भी करना पड़ा। आठ संदिग्ध लोगों को भी पूछताछ के लिए हिरासत में लिया गया है।

गौरतलब है कि गत सोमवार को आतंकियों ने कुलगाम में जे एंड के बैंक की कैशवैन पर हमला कर पांच पुलिसकर्मियों के साथ दो बैंक कर्मियों की हत्या भी कर दी थी। आतंकी मारे गए पुलिसकर्मियों के हथियार भी लूट ले गए थे। इसके बाद मंगलवार की रात को शोपियां में जिला अदालत परिसर से आतंकयों ने एक पुलिस चौकी पर धावा बोल पांच राइफलें लूटी थी। इस दौरान तीन बैंकों में भी डकैती हुई।

आतंकी की ट्रेनिंग वाला वीडियो इसी क्षेत्र में कहीं बना

SSP शोपियां ताहिर सलीम ने हालांकि किसी को भी पूछताछ के लिए हिरासत में लिए जाने से इनकार करते हुए कहा कि जिन गांवों की तलाशी ली जा रही है, वे जिला पुलवामा और जिला शोपियां के अंतर्गत ही आते हैं। यह सभी गांव एक दूसरे से सटे हैं। इन गांवों में दो दर्जन के करीब आतंकियों के छिपे होने की संभावना है। एक अन्य अधिकारी ने बताया कि गत दिनों जिन 30 आतंकियों का वीडियो वायरल हुआ था, उनमें से कुछ इसी इलाके में बीते तीन दिनों के दौरान देखे गए हैं। इसके अलावा आतंकी की ट्रेनिंग वाला वीडियो भी इसी क्षेत्र में कहीं बना है।

तलाशी अभियान में राज्य पुलिस के विशेष अभियान दल SOG के साथ साथ 55 आरआर, 44 आरआर, 111 सीआरपीएफ के जवान हिस्सा ले रहे हैं। सुरक्षाबलों द्वारा हफ, श्रीमाल, सुगाम, तुरकवांगन, चिलीपोरा, मलनाड और सुगन व उनके साथ सटे इलाकों की सुबह पांच बजे के करीब घेराबंदी की। सुगन और तुरकवांगन गांव में स्थानीय लोगों ने सुरक्षाबलों को घेराबंदी से रोकते हुए उनके खिलाफ नारेबाजी करते हुए पथराव भी किया। स्थिति पर काबू पाने के लिए पुलिस ने हल्का बल इस्तेमाल किया और जल्द ही स्थिति को सामान्य बना लिया।

संबंधित अधिकारियों ने बताया कि तलाशी अभियान के दौरान कई मकानों को खंगाला गया है। इसके अलावा कई गांव वालों के बारे में पड़ताल की गई है। हालांकि आधिकारिक तौर पर किसी की गिरफ्तारी की पुष्टि नहीं हुई है। लेकिन आठ संदिग्ध लोगों को पूछताछ के लिए हिरासत में लिए जाने की सूचना है।

उधर, पठानकोट में दो संदिग्ध बैग मिलने के बाद भय का माहौल बन गया जिसके बाद इलाके की सुरक्षा बढ़ा दी गई है। पठानकोट में गुरुवार (4 मई 2017) को सिक्योरिटी अलर्ट जारी कर दिया गया है। रिपोर्ट्स के मुताबिक, बुधवार को पठानकोट में सेना के अड्डे के पास संदिग्ध बैग्स मिले थे जिनमें से दो मोबाइल टावर की बैटरियां बरामद की गई थीं। मामला मामून इलाके के पास सैन्य अड्डे का है। इस वारदात के बाद पूरे पठानकोट में सुरक्षा बढ़ा दी गई है। कई इलाकों में सर्च ऑपरेशन्स भी चलाए जा रहे हैं। पुलिस ने कई इलाकों की घेराबंदी कर तलाशी अभियान चला रही है।

Comments

Most Popular

To Top