North-Central India

जल रहे जिले की कमान अब इस तेज-तर्रार IPS अफसर के हाथ

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के जनपद सहारनपुर में भड़की जातीय हिंसा के बाद मुख्यमंत्री ने पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) को तलब किया तो वहीं कमिश्नर, डीएम, डीआईजी और एसएसपी समेत कई अधिकारियों को पद से हटा दिया है और भारी फोर्स को जनपद में तैनात किया है। डीएम नागेन्द्र प्रसाद सिंह और एसएसपी सुभाष चन्द्र दुबे को निलंबित कर दिया गया है।





नागेन्द्र प्रसाद सिंह की जगह नयी तैनाती प्रमोद कुमार को दी गई है जबकि बब्लू कुमार को नया एसएसपी बनाया गया है। प्रदेश सरकार ने इन दोनों अफसरों को तत्काल तैनाती देते हुए स्पेशल प्लेन से सहारनपुर भेजा है। तेज-तर्रार अफसर की छवि वाले 2009 बैच के आईपीएस अफसर बब्लू कुमार को राजनीतिक दखलंदाजी से सख्त नफ़रत है और समाजवादी पार्टी की सरकार ने बब्लू को मथुरा जिले की कमान उस समय दी गई थी जब जिला जल रहा था। उस समय भी बब्लू को स्पेशल प्लेन से भेजा गया था।

एसएसपी सुभाष चन्द्र दुबे

सहारनपुर के निलंबित एसएसपी सुभाष चन्द्र दुबे (फोटो फेसबुक वाल से)

केएम इमैनुअल

सहारनपुर के नए डीआईजी केएम इमैनुअल

स्थानांतरित डीआईजी जेके शाही को तत्काल रिलीव करने और केएम इमैनुअल को तत्काल ज्वाइन करने को कहा गया।एडीजी (लॉ एंड आर्डर) ने बताया कि माहौल को काबू में कर लिया गया है, ऐहतियातन तौर पर भारी फोर्स लगा दी गई है।

दरअसल, सहारनपुर जिले के शब्बीरपुर गांव में चौथी बार हिंसा भड़की। इस बार दलित समुदाय के लोगों ने ठाकुरों के परिवार संग मारपीट की। आरोप है कि महिलाओं से छेड़छाड़ कर उनके घरों को आग लगा दी। खूनी संघर्ष में सहारनपुर की ज़मीन लाल हो गई। इस हिंसा को काबू में करने के लिए जिला व पुलिस प्रशासन को सेना तक की मदद लेनी पड़ी। जिले में लगातार हो रही हिंसा और लचर कानून व्यवस्था को मद्देनजर रखते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बुधवार की शाम डीजीपी सुलखान सिंह को तलब किया।

सहारनपुर में प्रशासन ने इंटरनेट और मैसेज सेवा पर लगाया प्रतिबंध

उधर, अति संवेदनशील शहर माने जाने वाले सहारनपुर में एडीजी आदित्य मिश्रा डेरा डाले हुए है। तो वहीं जिला प्रशासन ने गुरुवार को इंटरनेट व मैसेज सेवा पर कुछ दिन प्रतिबंध लगाने के आदेश मोबाइल प्रदाता कंपनियों को दिए हैं।

Comments

Most Popular

To Top