East India

छत्तीसगढ़ : इनामी समेत 33 माओवादियों ने किया सरेंडर

नक्सलियों का आत्मसमर्पण

जगदलपुर। छत्तीसगढ़ के जगलपुर में आज (31 मार्च) सरकार की पुनर्वास नीति से प्रभावित होकर और मुख्यधारा में लौटने के उद्देश्य से दो जनमिलिशिया कमांडर सहित 33 माओवादियों ने कलेक्टर, आईजी सुन्दरराज पी और एसपी के समक्ष आत्मसमर्पण कर दिया। दोनों कमांडरों में से एक महिला माओवादी एरिया कमेटी अध्यक्ष है। इनमें 29 पुरुष और 4 महिला नक्सली शामिल हैं। ये सभी दरभा और मारडूम क्षेत्र के हैं। काफी संख्या में नक्सलियों के सरेंडर किए जाने को पुलिस एक बड़ी सफलता मान रही है।





उक्त माओवादियों में दरभा डिवीजन कांगेर वेली एरिया कमेटी के 24 और बारसूर कमेटी के 8 माओवादी शामिल हैं। पुलिस को-ऑर्डीनेशन सेंटर में आयोजित पत्रकार वार्ता के दौरान बस्तर आईजी ने बताया कि कुमारी जोगी मडकामी एलओएस सदस्य, दुधी गोंचे जनमिलिशिया कमांडर, कुमारी पीसो मडकामी डीएकेएमएस एरिया कमेटी अध्यक्ष, फूलराम बोधघाट जनमिलिशिया कमांडर ने आत्मसमर्पण कर दिया है और इन सभी पर एक लाख रुपए का इनाम था।

इस दौरान बस्तर एसपी आरिफ शेख ने कहा की कांगेर वेली एरिया कमेटी के एक मुख्य गांव भडरीमहू से एक साथ 14 नक्सलियों ने आत्मसमर्पण किया है। इनके समर्पण के बाद कांगेर एरिया कमेटी के सभी गांव में नक्सली संगठन छिन्न-भिन्न हो चुका है। महूपदर एलओएस मेंबर जोगी के सरेंडर के बाद अब नक्सली केडर में कोई भी स्थानीय व्यक्ति शामिल नहीं है।

बाकी नक्सली दक्षिण बस्तर के हैं। जोगी ने यह खुलासा भी किया है कि इनकी संख्या अत्यंत कम रह गई है और जो रह गए हैं, वे भी संगठन छोडक़र भाग रहे हैं। अधिकारियों ने बताया कि समर्पित नक्सलियों को शासन के तहत तात्कालिक सहायता के रूप में 10-10 हजार की प्रोत्साहन राशि दी गई है। इन्हें आवश्यकतानुसार आड़ावाल स्थित लाइवलीहुड कालेज में विभिन्न कार्यों का प्रशिक्षण देकर पुनर्वास भी किया जाएगा। विदित हो कि अब तक बस्तर जिले में कुल 454 समर्पण हो चुके हैं।

Comments

Most Popular

To Top