BSF

अश्रु गैस इकाई कर रही है सराहनीय काम : BSF महानिदेशक

बीएसएफ ऑफिसर

नई दिल्ली। सीमा सुरक्षा बल (BSF) के महानिदेशक केके शर्मा ने कानून व्यवस्था प्रबंधन के लिए दंगा-विरोधी अश्रु गैस Munitionsका उत्पादन कर अश्रु गैस इकाई सभी पुलिस बलों को समय पर आपूर्ति कर सराहनीय काम कर रही है। उन्होंने कहा कि अश्रु गैस इकाई वर्ष 1976 में BSF अकादमी टेकनुपर में स्थापित की गई थी। आज स्थिति यह है कि इसने स्वदेशी गैर घातक Munitions (Non-lethal munitions) को उत्पादित कर देश को विदेशी Munitions पर आश्रित होने से मुक्त कर दिया है। उन्होंने गैर घातक हथियारों और Munitions के क्षेत्र में उत्तम गुणवत्ता, समय पर उत्पादन तथा पुलिस बलों की आवश्यकता के अनुरूप नए उत्पाद बनाने के लिए अश्रु गैस इकाई की सराहना की।





BSF महानिदेशक नई दिल्ली में सोमवार को आयोजित अश्रु गैस इकाई की 39वीं गवर्निंग बॉडी मीटिंग को संबोधित कर रहे थे।

प्रबंधक मंडल मीटिंग में पुलिस अनुसंधान एवं विकास ब्यूरो (BPR&D) CRPF, गृह मंत्रालय, दिल्ली पुलिस, राज्य पुलिस बल, Ordnance Factories Board औऱ वित्त मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारी शामिल हुए। BSF के महानिरीक्षक राजेश निर्वाण (रसद) ने प्रतिनिधियों का स्वागत किया। अश्रु गैस इकाई के महाप्रबंधक जॉन बैनट ने अश्रु गैस इकाई की उपलब्धियों पर प्रकाश डाला और भविष्य की योजनाओं पर रिपोर्ट पेश की।

महानिदेशक शर्मा ने कहा कि यह हर्ष की बात है कि प्रधानमंत्री सहित गृह राज्य मंत्री एवं राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार ने इस वर्ष जनवरी माह के दौरान अश्रु गैस इकाई का दौरा किया एवं इसके कामकाज एवं उत्पादों में विशेष रूचि दिखाई। अश्रु गैस इकाई एक ISO 9001:2008, ISO 14001:2015 और  ISO 50001:2011 प्रमाणित इकाई है जो कि अन्तर्राष्ट्रीय गुणवत्ता वाले  Non-lethal munitions का उत्पादन कर देश की राज्य पुलिस बलों और विशेष शस्त्र बलों को उनकी आवश्यकता के अनुरूप समय पर उपलब्ध करवाती है। इकाई में स्थित प्लास्टिक प्रयोगशाला भी एन.ए.बी.एल. प्रमाणीकरण हेतु अग्रसर है।

आंसू गैस

अश्रु गैस इकाई के उत्पादों में मुख्यतः Flash- Bang munitions, Impact munitions और Customized munitions और विशेष सुरक्षा बलों के लिये अनुकूलित म्यूनिशन शामिल है। वर्ष2017-18 में अश्रु गैस इकाई ने डी.आर.डी.ओ. की तकनीकी सहायता से ऑलियोरेजन कैप्सिकम (ओसी)पर आधारित मिर्ची ग्रेनेड का उत्पादन प्रारंभ किया है। अश्रु गैस इकाई द्वारा प्रशिक्षण हेतु 38 एमएम एवं 40 एमएम ट्रेनिंग सैल का डिजायन भी तैयार किया जा रहा है। ताकि विभिन्न प्रशिक्षण संस्थानों में प्रशिक्षुओं को प्रशिक्षित किया जा सके। अश्रु गैस इकाई उत्पादन प्रक्रिया को स्वचालित करने और लैक्रीमैटरी म्युनिशन के नये संस्करण को पेटेंट करने हेतु अग्रसर है। पहले से ही अश्रु गैस इकाई ने अपने दो उत्पादों को पेंटेंट करने के लिए आवेदन किया है और कुछ अन्य उत्पादों को पेटेंट करने की प्रक्रिया जारी है।

वर्तमान में अश्रु गैस इकाई लैक्रामैटरी अघातक म्युनिशन को तैयार करने के लिए चार अलग-अलग रसायनों के संलयन पर काम कर रहा है। जो कानून व्यवस्था प्रबंधन में सुरक्षा बलों के लिए और अधिक कारगर सिद्ध होगें।

Comments

Most Popular

To Top