Paramilitary Force

C- 60 कमांडो के नाम से थर-थर कांपते हैं नक्सली, जानिए 9 विशेष बातें

नई दिल्ली। महाराष्ट्र के C- 60 कमांडो को देखकर नक्सली थर्रा उठते हैं और वो जानते हैं कि उनसे सामना होने का मतलब है सीधा मौत से साक्षात्कार। ये कमांडो पलक झपकते ही दुश्मन का काम तमाम कर देते हैं, चाहे वो बिल्कुल नजदीक हो या दूर। आपको याद होगा कि इन कमांडो ने अप्रैल महीने में महाराष्ट्र के गढ़चिरौली में दो अलग-अलग मुठभेड़ों में 39 नक्सलियों को मार गिराया था। खास बात यह है कि इस ऑपरेशन में इस बल को कोई नुकसान नहीं पहुंचा था।





C- 60 कमांडो की चुस्ती-फुर्ती, हैरतअंगेज कारनामे और दुश्मन का सफाया करने में इनकी महारत को देखते हुए अब केंद्रीय गृह सचिव राजीव गाबा ने नक्सल प्रभावित राज्यों को इसी तर्ज पर कार्य करने की चिट्ठी लिखकर निर्देश दिया है। उन्होंने कहा है कि नक्सल प्रभावित राज्यों के पुलिस आलाकमान और केंद्रीय अर्धसैनिक बलों के डीजी महाराष्ट्र की C- 60 कमांडो की तर्ज प र अपने यहां कमांडो तैयार करें। आइए जानते हैं C- 60 कमांडो से जुड़ी कुछ खास बातें-

ऐसे हुआ C- 60 के कमांडो का गठन

C-60 कमांडो

महाराष्ट्र पुलिस ने 1989-90 में नक्सलियों से लड़ने के लिए एक विशेष टीम बनाने का फैसला किया था। प्रदेश के सबसे अधिक नक्सली प्रभावित इलाके गढ़चिरौली में स्थानीय लोगों को चुनकर इसका गठन किया गया।

Comments

Most Popular

To Top