Forces

एसएसबी की गेजिंग वाहिनी मुख्यालय का शिलान्यास

नई दिल्ली: केन्द्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने सीमा पर सुरक्षा में तैनात सशस्त्र सीमा बल (SSB-एसएसबी) की जमकर तारीफ की। उन्होंने कहा कि एसएसबी देश की सुरक्षा विपरीत परिस्थितियों में कर रही है। इसके लिए वह बधाई की पात्र है। सीमा पर अवैध सामान की जब्ती से जुड़ी जानकारी देते हुए गृहमंत्री ने कहा कि बल ने पिछले वर्ष 306 करोड़ के अवैध सामान सीमा पर जब्त किए और इस दौरान पांच हजार तस्करों और नक्सलियों को गिरफ्तार किया। इस वर्ष अब तक 227 करोड़ रुपए के मूल्य के अवैध सामान बल जब्त कर चुका है और 2818 असामाजिक तत्वों को गिरफ्तार किया है।





गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने उक्त बातें सिक्कम में एसएसबी की गेजिंग वाहिनी मुख्यालय का शिलान्यास करने के बाद कहीं। शिलान्यास के बाद गृहमंत्री ने सैनिक सम्मेलन में अधिकारियों और जवानों को संबोधित करते हुए कहा कि गेजिंग वाहिनी मुख्यालय के लिए 77.88 करोड़ की लागत से 62.466 एकड़ जमीन पर 213 आवासीय भवन, ऑफिसर मेस, एसओ मेस, जवान बैरक और अस्पताल का निर्माण किया जाएगा। उन्होंने कहा कि एनबीसीसी इस निर्माण कार्य को 18 माह की निर्धारित अवधि में पूरा कर लेगी।

राजनाथ सिंह ने एसएसबी की तारीफ में आगे कहा कि एसएसबी की कार्य दक्षता को देखते हुए ही उसकी तैनाती जम्मू कश्मीर में आंतरिक सुरक्षा के लिए की गई है। इसके अलावा बिहार, झारखंड, छत्तीसगढ़ जैसे नक्सल प्रभावित राज्यों में भी एसएसबी अपनी सेवा दे रही है। एनडीआरएफ में भी एसएसबी की दो बटालियन तैनात हैं। एसएसबी अपने कर्तव्यों का सही तरह से पालन कर रही है और देश की सुरक्षा कर रही है।

राजनाथ सिंह को गार्ड आफ ऑनर दिया गया

एसएसबी के गेजिंग वाहिनी मुख्यालय का शिलान्यास करते गृहमंत्री राजनाथ सिंह

एसएसबी के अधिकारियों और जवानों के साथ भोजन करते गृहमंत्री राजनाथ सिंह

गृहमंत्री को स्मृति चिन्ह भेंट करतीं एसएसबी की महानिदेशक अर्चना रामासुन्दरम

हाल ही में 15वीं वाहिनी एसएसबी के शहीद उपनिरीक्षक अमल सरकार का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि अमल सरकार ने अपना सर्वोच्च बलिदान देते हुए न सिर्फ अपना बल्कि देश का गौरव भी बढ़ाया है। उन्होंने इस मौके पर घोषणा की कि शहीद हुए जवान के परिवार को एक करोड़ रुपए की आर्थिक मदद दी जाएगी।

गृहमंत्री ने कहा कि उन्होंने अपने हवाई सर्वेक्षण के दौरान देखा कि एसएसबी की चौकियां-समवाय हेडक्वार्टर उत्तरेय, चौकी बजरधारा और चौकी कुमुख ऊंचाईं पर स्थित हैं। ऐसी विषम परिस्थितियों में एसएसबी देश की सुरक्षा का दायित्व पूरी तरह से निभा रही है।

अपने संबोधन के बाद राजनाथ सिंह ने एसएसबी की प्रदर्शनी का अवलोकन किया और जवानों व अधिकारियों के साथ भोजन भी किया। राजनाथ सिंह ने बडाखाना में सम्मिलित हुए जवानों को उनके कल्याण के लिए एक लाख रुपए का दान किया। उसके बाद राजनाथ सिंह ने गांव पेलिंग में सिविक एक्शन कार्यक्रम में भी शिरकत की। यहां उन्होंने कहा कि मैं एसएसबी की महानिदेशक महोदय को इस बात के लिए विशेष बधाई देता हूं कि उनकी व्यक्तिगत पहल पर बीते दिसम्बर माह में एसएसबी ने देश के दूर-दराज के इलाकों से 145 युवतियों, जिसमें 20 युवतियां सिक्किम से शामिल थीं, को दिल्ली, आगरा, जयपुर, शिमला आदि इलाकों में शैक्षणिक भ्रमण पर आने का अवसर प्रदान किया। उन युवतियों को राष्ट्रपति महोदय से भी मिलने का मौका मिला।

एसएसबी की महानिदेशक अर्चना रामासुन्दरम ने गृहमंत्री राजनाथ सिंह का पूरे एसएसबी परिवार की तरफ से स्वागत और आभार प्रकट किया। उन्होंने कहा कि गृहमंत्री का एसएसबी वाहिनी में भ्रमण अधिकारी और कर्मचारी को मार्गदर्शन, सबमें उत्साह का संचार और हमें विपरीत परिस्थितयों में कर्तव्य पालन के लिए प्रेरित करती रहेंगी।

इस अवसर पर सीमांत मुख्यालय सिलीगुड़ी, महानिरीक्षक एस बंद्योपाध्याय, क्षेत्रीय मुख्यालय गंगटोक के उप-महानिरीक्षक वन्दन सक्सेना तथा आमंत्रित सभी अतिथिगण, एसएसबी के अधिकारी और जवान मौजूद थे।

Comments

Most Popular

To Top