Forces

SSB के जांबाज उप निरीक्षक को दिया गया आखिरी सलाम

गुवाहटी: उग्रवादियों से लोहा लेते समय शहीद हुए सशस्त्र सीमा बल (एसएसबी) की 15वीं वाहिनी के उप निरीक्षक अमल सरकार का आज अंतिम संस्कार कर दिया गया है। अमल सरकार भारत-भूटान सीमा के पास उग्रवादियों से हुई मुठभेड़ के दौरान मंगलवार को शहीद हो गए थे। शहीद होने से पहले उन्होंने उग्रवादियों से अकेले मुकाबला किया और 35 राउंड गोलियां चलाकर एक उग्रवादी को ढेर कर दिया और दूसरे को बुरी तरह जख्मी कर दिया था। अमल सरकार त्रिपुरा के अगरतला के निवासी थे तथा 28 मार्च, 1990 को सशस्त्र सीमा बल को ज्वाइन किया था।





एसएसबी के SI ने शहादत से पहले मार गिराया आतंकी

शहीद अमल सरकार के पार्थिव शरीर को काजवगांव से आज गुवाहाटी लाया गया जहां सीमांत मुख्यालय पर बल के एडीजी सुरजीत सिंह देसवाल और अन्य सुरक्षाबलों के अधिकारियों से श्रद्धांजलि अर्पित की। उसके बाद उनका पार्थिव शरीर विमान के जरिए उनके पैतृक घर दक्षिण त्रिपुरा ले जाया गया। अगरतला हवाई अड्डे पर उनके पार्थिव शरीर को SSB के उप महानिरीक्षक श्री सौरभ त्रिपाठी, उप महानिरीक्षक सीमा सुरक्षा बल सीमान्त अगरतला, जिलाधिकारी (पश्चिम) त्रिपुरा, पुलिस अधीक्षक (पश्चिम) त्रिपुरा, सदर एसडीएम, सीआईएसएफ के कमांडेंट और अन्य शीर्ष अधिकारियों ने श्रद्धांजलि दी।

शहीद अमल सरकार (फाइल फोटो)

एसएसबी के मुताबिक अमल सरकार ने जिस उग्रवादी को मारा था उसका नाम बनसो है और वह एनडीएफबी (संगबिजीत) के 34वें बैच का कैडर था और उसने म्यांमार में ट्रेनिंग ली थी। वह एनडीएफबी (संगबिजीत) के कमांडर जी बिदाई का विश्वस्त था। उसकी मौत से जी बिदाई को काफी नुकसान हुआ है।

पहले लुकाश नार्जारी उर्फ लंग्फा का मारा जाना और अब बनसो की मौत के बाद इनके कैंपों पर हमला कर सुरक्षा बलों द्वारा भारी मात्रा में गोला बारूद, राश आदि की बरामदगी होने से जी बिदाई और के बाधा सिर्फ मानस के जंगलों में भटक रहे हैं।

उल्लेखनीय है कि पर भारत-भूटान के सीमाई इलाके में चिरांग जिले में वीओपी ढोला के पास गुप्त सूचना के आधार पर मंगलवार को हुई मुठभेड़ में प्रतिबंधित आतंकी संगठन एनडीएफबी (संगबिजीत) का एक कैडर ढेर हो गया था जबकि दो आतंकी गंभीर रूप से घायल हो गए। इस मुठभेड़ में अमल सरकार शहीद हो गए। इस मुठभेड़ में एसएसबी की तरफ से 100 राउंड गोलियां चलीं। जिसमे एक उग्रवादी मौक़े पर मारा गया। जबकि दो अन्य घायल उग्रवादी अपने साथियों के साथ भाग निकले। उनको पकड़ने के लिए ऑपरेशन गत सोमवार व मंगलवार की मध्य रात्रि से आरंभ हुआ था।

Comments

Most Popular

To Top