North-Central India

SSB जवान के साथ न्याय नहीं कर रही यूपी पुलिस

यूपी पुलिस

लखनऊ: देश की सुरक्षा में सीमा पर खड़े जवान के परिवार की सुरक्षा ही खतरे में है। वह देश के दुश्मनों से तो निबट रहा है लेकिन अपने उन दुश्मनों से कैसे निबटे जिसका साथ उत्तर प्रदेश पुलिस दे रही है। दरअसल, पड़ोसियों की दबंगई से परेशान सशस्त्र सीमा बल (एसएसबी) का जवान अपने परिवार के साथ पुलिसिया कार्रवाई न होने पर सोमवार को न्याय के लिए मुख्यमंत्री आवास पहुंचा लेकिन पिछले चार दिन से उसकी मुलाकात मुख्यमंत्री से नहीं हो पा रही है।





चंडीगढ़ में तैनात एसएसबी जवान जेपी यादव मूलरूप से अम्बेडकर नगर जलालपुर के मथई गांव निवासी है। उसके घर पर उसके माता-पिता और बच्चे रहते हैं। जवान का आरोप है कि पड़ोसी राम भजन यादव, संदीप यादव, सुशीला यादव, सुमन यादव और कंचन यादव ने उनके घरवालों को लाठी-डंडों से पीटा। इतना ही नहीं क्षेत्र में दहशत फैलाने के लिए दबंगों ने कई राउंड फायरिंग भी की। जब पीड़ित परिवार शिकायत लेकर स्थानीय थाने पहुंचा तो पुलिस ने मदद नहीं की।

एसएसबी जवान जेपी यादव का कहना है कि दबंग उसके घरवालों को धमकी दे रहे है, लेकिन पुलिस से सुनवाई न होने पर वह जनता दरबार में कई दिनों से आ रहा है, लेकिन उसकी मुख्मंत्री से मुलाकात नहीं हो पा रही है।

सीआरपीएफ का जवान भी पहुंचा मुख्यमंत्री के पास न्याय मांगने

मथुरा जिले के कोतवाली थानाक्षेत्र स्थित भरतनगर निवासी हरिपाल सिंह सीआरपीएफ में तैनात हैं। वह भी परिवार संग न्याय के लिए सीएम से मिलने पहुंचे। उनका आरोप है कि बेटे रिंकू सिंह का विवाह हिन्दू रीति रिवाज के अनुसार हुआ था। उनकी बहू की मायके में स्वाभाविक मौत हो गई लेकिन लड़की वालों ने तबियत ख़राब होने का बहाना बनाकर 50 हजार नगद और चेक भी ले लिया। इसके बाद झूठा मुकदमा भी लिखा दिया। पुलिस कोई सुनवाई नहीं कर रही है, इसके चलते वह मथुरा से अपने परिवार के साथ जनता दरबार पहुंचे। लेकिन उनकी भी मुलाकात मुख्यमंत्री से नहीं हो सकी हैं।

 

Comments

Most Popular

To Top