BSF

BSF जवानों को रामदेव की बजाय अब वासुदेव जग्गी देंगे योग की ट्रेनिंग

बाबा रामदेव और योग गुरु जग्गी वासुदेव

नई दिल्ली। बाबा रामदेव ने दो साल पहले बीएसएफ को योग का प्रशिक्षण देने का करार किया था वह अब खत्म चुका है। पतंजलि योगपीठ के बैनर तले बीएसएफ के जवानों को ट्रेनिंग दी जाती थी जोकि बाद में जवानों की पीटी में तब्दील हो गई। बता दें कि अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस शुरू होने के बाद से बाबा रामदेव की पतंजलि का शिविर बीएसएफ जवानों के लिए लगता था लेकिन बीएसएफ ने अब पतंजलि से करार खत्म करते हुए ईशा फाउंडेशन के जग्गी वासुदेव से नाता जोड़ लिया है।





इस साल अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर जग्गी वासुदेव खुद सियाचीन के बेस कैंप में सेना के जवानों को ट्रेनिंग देते नजर आए। दूसरी तरफ, बीएसएफ का मानना है कि सिर्फ एक ही व्यक्ति या संस्था से ट्रेनिंग लेने की कोई बाध्यता नहीं थी, ऐसे में यह फैसला लिया गया। अब बाबा रामदेव की पतंजलि से बीएसएफ की कोई डील नहीं है।

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर सियाचिन के आर्मी बेस कैंप में जग्गी वासुदेव ने दी ट्रेनिंग

ईशा फाउंडेशन BSF  के अलावा CRPF, CISF, कोस्ट गार्ड और सेना के जवानों को योग सिखा रखा है। इस साल अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर  सेना के तकरीबन ढाई सौ जवानों को सियाचिन के आर्मी बेस कैंप में जग्गी वासुदेव ने योगाभ्यास कराया। बीएसएफ के डीजी केके शर्मा ने एक अंग्रेजी अखबार को बताया कि बाबा रामदेव ने साल 2016 में चार हजार जवानों को प्रशिक्षित किया। मगर अब सेना उनकी सेवाओं का उपयोग नहीं करती है। वैसे बाबा रामदेव ने जवानों के लिए योग के काफी उपयोगी सत्र लिए। पहले सत्र की ट्रेनिंग  पतंजलि योगपीठ ने ही दी थी। विभाग से कई लोगों ने सेवा देने के लिए संपर्क साधा, पर जग्गी वासुदेव को चुना गया। प्राणायाम और ध्यान के कैप्सूल कोर्स जग्गी वासुदेव जवानों को दे रहे हैं।

ईशा फाउंडेशन का कहना है कि जून 2017 में बीएसएफ के सीनियर अधिकारियों से बातचीत के बाद 2017 से बीएसएफ से जुड़ाव हुआ। जवानों को सशक्त करने के लिए उन्होंने खास ट्रेनिंग का प्रस्ताव रखा, बीएसएफ से मंजूरी मिलने पर ट्रेनिंग आरंभ हुई।

 

Comments

Most Popular

To Top