Forces

स्कूटरों से बर्फीले इलाके में आसानी से कर सकेंगे पेट्रोलिंग

आईटीबीपी-जवान

नई दिल्ली। भारत-चीन सीमा पर आईटीबीपी के जवान बर्फ पर चलने वाले स्कूटरों से गश्त के लिए तैयार हैं। इन स्कूटरों को स्नो स्कूटर कहा जाता है। शक्तिशाली स्कूटर लद्दाख, उत्तराखंड और सिक्किम में ऊंचे स्थानों पर सीमा पर ले जाए गए हैं जहां भारत-तिब्बत सीमा पुलिस (ITBP) तैनात रहती है।





इन आधुनिक स्कूटरों में रायफल और गोला-बारूद लादकर चालक और उसके पीछे एक जवान बैठ सकता है और ये पहाड़ी पर 45 डिग्री की ढलान पर चढ़ सकते हैं। साथ ही इनमें बर्फ पर आसानी से चलने वाली 278 किलोग्राम वजनी मशीन है जो चेनकेस बेल्टों के सहारे चलती है। इसमें 40 लीटर की पेट्रोल टंकी बनी हुई है। यह एक घंटे में 20 से 30 किलोमीटर तक आसानी से जा सकती है। बर्फ पर चलने वाले ऐसे स्कूटर एडवेंचर प्रेमियों के लिए आमतौर पर बर्फीले पर्यटन स्थलों पर इस्तेमाल में लाए जाते हैं।

3,488 किलोमीटर की सीमा की रक्षा के लिए स्नो स्कूटर

आईटीबीपी को 3,488 किलोमीटर की सीमा की प्रभावी तरीके से रक्षा के लिए अपनी क्षमताओं को बढ़ाने के लिहाज से पिछले साल छह दर्जन से अधिक एसयूवी मिली थी जिन्हें गश्ती और परिवहन के लिए दूरदराज के सीमावर्ती इलाकों में भेजा गया था। उसके बाद से इन इलाकों में आईटीबीपी स्नो स्कूटर का इस्तेमाल कर रही है।

मालूम हो कि आईटीबीपी के करीब 80 हजार जवान चीन से लगी सीमा पर तैनात हैं। इनमें से कई चौकी तो 14 हजार से ज्यादा ऊंचाई पर है। इसका सबसे बड़ा फायदा ये होगा कि जवान बर्फीले इलाके में आसानी से कहीं भी आ जा सकते हैं।

Comments

Most Popular

To Top