COURT

CRPF कमांडेंट को सुकमा भेजने के आदेश पर रोक

इलाहाबाद हाईकोर्ट

इलाहाबाद। इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल (CRPF-सीआरपीएफ) 148 बटालियन साहूपुरी चंदौली में तैनात कमांडेंट वेदप्रकाश त्रिपाठी का तबादला सुकमा (छत्तीसगढ़) करने के आदेश पर रोक लगा दी है। कोर्ट ने भारत सरकार से याचिका पर छह हफ्ते में जवाब मांगा है। इससे पहले याची चरारे शरीफ, बड़गाम, कश्मीर घाटी से चंदौली स्थानान्तरित होकर आया था। तबादला नीति के खिलाफ सुकमा भेजने के आदेश को याची ने चुनौती दी है। कोर्ट ने भारत सरकार से याचिका पर छह हफ्ते में जवाब मांगा है।





यह आदेश न्यायमूर्ति कृष्ण मुरारी तथा न्यायमूर्ति एस.के.अग्रवाल की खण्डपीठ ने कमांडेंट वेदप्रकाश त्रिपाठी की याचिका पर दिया है। याचिका पर वरिष्ठ अधिवक्ता अनिल भूषण तथा भारत सरकार के अपर सालीसिटर जनरल अशोक मेहता व सीनियर पैनल अधिवक्ता एस.के.राय ने पक्ष रखा।

याची का कहना है कि सीआरपीएफ निदेशालय ने 24 नवम्बर 14 को तबादला नीति जारी करते हुए उसका कड़ाई से पालन करने का निर्देश दिया है। पालिसी के तहत एक स्थान पर कम से कम तीन साल की तैनाती के बाद ही तबादला किया जाए। याची की तैनाती को दो साल भी नहीं हुए हैं। कोर्ट ने कहा कि तबादला आदेश में कोई कारण स्पष्ट नहीं किया गया है। 20 मई 2017 को याची का सुकमा तबादला कर दिया गया।

Comments

Most Popular

To Top