CRPF

जानिए केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (CRPF) के बारे में

सीआरपीएफ की गठन का मुख्य उद्देश्य राज्यों की कानून व्यवस्था बनाए रखने और आतंक विरोधी गतिविधियों का खात्मा करने के लिए किया गया था।

गठन: 27 जुलाई 1939





आदर्श वाक्य: सेवा और निष्ठा

सक्रिय सैनिक: 308,862 (तीन लाख आठ हजार आठ सौ बासठ)

मुख्यालय: राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली

केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (Central Reserve Police Force/सीआरपीएफ) भारत के केंद्रीय अर्धसैनिक बलों में एक सबसे बड़ा बल है। यह देश के गृह मंत्रालय के अधीन काम करता है। सीआरपीएफ की गठन का मुख्य उद्देश्य राज्यों की कानून व्यवस्था बनाए रखने और आतंक विरोधी गतिविधियों का खात्मा करने के लिए किया गया था।

 

सीआरपीएफ को सबसे पहले क्राउन प्रतिनिधि पुलिस के रूप में 27 जुलाई 1939 को अस्तित्व में लाया गया था। देश की आजादी के बाद 28 दिसंबर 1949 को सीआरपीएफ अधिनियम लागू होने के बाद यह केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल बन गया।

सीआरपीएफ की विशेषता

  • राज्य पुलिस की मदद करना, आतंकवाद निरोधी अभियान चलाना, शांति व्य़वस्था कायम रखने, आतंकियों का मुकाबला करने में सीआरपीएफ का उपयोग ज्यादा
  • सीआरपीएफ की तैनाती महत्तवपूर्ण व्यक्तियों व स्थलों की सुरक्षा में भी की जाती है
  • सीआरपीएफ की एक महत्तवपूर्ण बटालियन ‘कोबरा’ को देश में उपजे नक्सल विरोधी अभियान के लिए मुख्य रूप से गठित किय़ा गया है

Comments

Most Popular

To Top