CRPF

Live Video : ‘अपने लड़के हैं टारगेट देखकर फायर करो…’

नई दिल्ली: सुकमा में केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ-CRPF) के 25 जवानों की शहादत के बाद सुकमा और बीजापुर में सीआरपीएफ की कोबरा बटालियन, छत्तीसगढ़ पुलिस, एसटीएफ, डिस्ट्रिक्ट रिजर्व गार्ड (डीआरजी) के संयुक्त अभियान ने नक्सलियों की कमर तोड़ दी है। वहां नक्सलियों की तलाश में लगातार अभियान चल रहा है, कई मुठभेड़ भी हो चुकी हैं। इसमें एसटीएफ का एक जवान शहीद हुआ है जबकि दो घायल हुए। बड़ी संख्या में नक्सलियों के मारे जाने की खबर है। ऐसे ही एक एनकाउंटर का लाइव वीडियो सामने आया है। इसमें न सिर्फ गोलियां चलने की आवाजें आ रही हैं अपितु विभिन्न फोर्सों के बीच तालमेल कैसेे स्थापित किया जाता है, साफ़ सुना जा सकता है।





दरअसल, ये वीडियो मुठभेड़ के दौरान किसी सिपाही ने पेड़ की आड़ में शूट कर लिया था। बाद में यह वीडियो मीडिया में आ गया है। इसमें सुरक्षाबलों के आपसी तालमेल से कैसे ऑपरेशन को अंजाम दिया जाता है, आपको इसकी बानगी दिख जाएगी। तालमेल बनाने में थोड़ी दिक्कत इसलिए भी आती है कि सबकी ट्रेनिंग के तौर-तरीके अलग-अलग हैं। सीआरपीएफ को तो प्रोफेशनल ट्रेनिंग मिली है लेकिन छत्तीसगढ़ पुलिस और उससे जुड़ी विंग, जो आपरेशन में लगी हैं, को ऐसा कोई प्रशिक्षण नहीं मिला हुआ है या यूं कहें कि उनकी ट्रेनिंग का तरीका इस तरह के आपरेशन के लिए नाकाफी है।

सुरक्षाबलों और नक्सलियों के बीच मुठभेड़ का लाइव वीडियो

इस बीच नक्सलियों को अब स्थानीय लोगों का साथ न के बराबर मिल रहा है। सुरक्षाबलों को इन ग्रामीणों ने न सिर्फ सूचनाएं मुहैया करानी शुरू कर दी हैं बल्कि वे अब चाहते हैं कि उनका जीवन आसान हो। दुर्गम इलाकों में इन ग्रामीणों की जिंदगी सड़क और यातायात के साधन के अभाव में बाकी जगह से कटी हुई है।

सड़क न होने से शहर से नाता बनाए रखने के लिए पचासों किमी की दूरी नापना इनके लिए दुरुह कार्य है। इनकी जिंदगी दुष्कर करने में नक्सलियों की बड़ी भूमिका है। माओवादी नहीं चाहते कि सरकार सड़के या हाइवे बनवाए। इसीलिए वे वर्दी पर अटैक करते हैं। लेकिन अब हालात बदल रहे हैं। जो माओवादी छत्तीसगढ़ के सीमावर्ती जिलों में तांडव मचा रहे हैं वे स्थानीय नहीं हैं। इस बात की पुष्टि सुरक्षाबलों (ग्राउंड पर तैनात) ने की है। ये माओवादी बाहर के हैं और उनकी बोली-भाषा भी भिन्न है। ऐसे में स्थानीय ग्रामीण अब सुरक्षा बलों के साए में अपनी तरक्की और सुरक्षा शिद्दत से महसूस कर रहे हैं।

Comments

Most Popular

To Top