CRPF

त्राल में CRPF कैंप में जवानों पर आतंकी हमला, 10 घायल

army

श्रीनगर। दक्षिण कश्मीर के पुलवामा स्थित त्राल के लरयार गाँव में सोमवार शाम सवा छह बजे आतंकियों ने सीआरपीएफ की 180वीं वाहिनी के कैम्प पर दो अंडर बैरल ग्रेनेड लांचर (UBGL) से दो ग्रेनेड फेंककर हमला किया जिसमें एक SI, दो हेड कांस्टेबल और पांच कांस्टेबल समेत 10 जवान घायल हो गए हैं। इन्हें छर्रे लगे हैं। इन्हें श्रीनगर के 92 बेस अस्पताल में भर्ती कराया गया है। घटना उस समय हुई जब जवान खाना खाने के लिए इकट्ठा हुए थे। इस हमले के बाद सीआरपीएफ को आतंकियों के खिलाफ आक्रामक अभियान छेड़ने के आदेश दिए गए हैं। साथ ही उन्हें अतिरिक्त चौकसी बरतने के लिए भी कहा गया है।





इसके बाद पूरे इलाके की घेराबंदी कर तलाशी अभियान चलाया गया, जो देर रात तक जारी रहा था। बीते चौबीस घंटों के आतंकियों द्वारा वादी में सुरक्षाबलों पर यह दूसरा हमला किया गया है। इससे पहले भी शोपियां इलाके में आतंकियों ने CRPF कैंप पर हमला किया गया था, जिसमें चार पुलिसकर्मी घायल हो गए थे।

  • कृष्णा घाटी में गोलीबारी के दौरान एक जवान घायल

पाकिस्तान अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा है तथा लगातार संघर्ष विराम का उल्लंघन जारी रखे हुए है। इसी के चलते पाकिस्तान सेना ने पुंछ जिले के कृष्णा घाटी सेक्टर की नियंत्रण रेखा पर सोमवार देर रात गोलीबारी की। इस गोलीबारी में सेना का एक जवान घायल हो गया। भारतीय सैनिकों ने भी इस गोलीबारी का मुंहतोड़ जवाब दिया।

इससे पहले, सोमवार सुबह भी पाकिस्तान की ओर से कृष्णा घाटी और नौशेरा सेक्टर में फायरिंग की गई थी। पाकिस्तान की ओर से सोमवार सुबह नियंत्रण रेखा तथा रिहायशी इलाकों को निशाना बना फायरिंग की। पाकिस्तान ने नौशेरा सेक्टर और कृष्णा घाटी में सीजफायर का उल्लंघन किया। सोमवार को दोनों तरफ से हुई गोलीबारी के दौरान पाकिस्तान ने आरोप लगाया था कि भारत की ओर से जवाबी कार्रवाई में उसके दो नागरिक मारे गए।

  • आतंकियों की धर पकड़ के लिए सुरक्षाबलों का सर्च ऑपरेशन

सुरक्षाबलों ने कश्मीर के सीमावर्ती जिलों कुपवाड़ा, बारामूला और बांदीपुरा में नियंत्रण रेखा के पास घने जंगलों में आतंकवादियों की धर पकड़ के लिए तलाशी अभियान शुरू किया है। इन इलाकों में गत बुधवार से अब तक सुरक्षा बलों ने कई घुसपैठ की घटनाओं को नाकाम भी किया है। इस दौरान अब तक 14 आतंकियों को ढेर किया जा चुका है।

सुरक्षा बलों ने कुपवाड़ा के माछिल सेक्टर, नौगाम, उड़ी सेक्टर तथा गुरेज सेक्टर के जंगलों में भी आतंकियों की धर पकड़ के लिए सघन तलाशी अभियान शुरू किया है। अभियान को रात में रोक दिया जाता है, लेकिन सुरक्षा बलों की ओर से जंगलों की घेराबंदी बरकरार रहती है, ताकि कोई आतंकी भाग न सके। नियंत्रण रेखा के पास सीमा की रखवाली करने वाले जवानों को हाई अलर्ट पर रखा गया है क्योंकि बड़ी संख्या में आतंकवादी पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर की ओर से सीमा के अंदर घुसने की कोशिश में हैं। घुसपैठ को विफल करने के लिए नियंत्रण रेखा के पास रात में सेना की गश्त को भी बढ़ा दिया गया है।

Comments

Most Popular

To Top