CRPF

नक्सली मुठभेड़ में CRPF की कोबरा बटालियन का जवान शहीद

औरंगाबाद। बिहार के नक्सल प्रभावित औरंगाबाद जिले के मदनपुर थाना अंतर्गत मचरुखिया नगुराही गांव के समीप प्रतिबंधित नक्सली संगठन भाकपा माओवादियों के हथियारबंद दस्ते के साथ मुठभेड़ में सीआरपीएफ के कोबरा बटालियन का एक जवान शहीद हो गया। औरंगाबाद अनुमंडल पुलिस अधिकारी पीएन साहू के मुताबिक 205 कोबरा बटालियन के जवान 28 वर्षीय आशीष पात्रा  मुठभेड़ में घायल हो गए थे उनकी झारखंड के रांची में इलाज के दौरान मौत हो गई।





कोबरा बटालियन के जवान आशीष अपनी दिनचर्या के अनुसार गश्त के लिये क्षेत्र में निकल थे तभी चकरबंधा जंगल की ओर से माओवादियों ने अचानक गोलीबारी शुरु कर दी। जिससे जवान के सिर में गोली लग गयी। जवान को हवाई मार्ग से रांची ले जाया गया जहां इलाज के दौरान उन्होंने दम तोड़ दिया। पुलिस सूत्रों का कहना है कि अगर समय पर हेलीकॉप्टर पहुंच जाता, तो शायद जवान की जान बचाई जा सकती थी

समय पर पहुंच जाता हेलीकॉप्टर तो  बच जाती जवान की जान

सूत्रों के मुताबिक जब भी नक्सलियों के विरुद्ध बड़े पैमाने पर ऑपरेशन चलाया जाता है, तो उन्हें हेलीकॉप्टर की सुविधा नहीं मिल पाती है। इसकी कमी घायल कोबरा जवान आशीष पात्रा को इलाज के लिए ले जाने के दौरान भी खली दोपहर चार बजे के करीब मुठभेड़ में कोबरा जवान जख्मी हुआ था और हेलीकॉप्टर करीब छह बजे पहुंचा था। इसलिए दो घंटे तक जवान का कोई उपचार उपलब्ध नहीं हो सका और उसके शरीर से खून बहने के कारण जवान की हालत बिगड़ती चली गयी। अस्पताल पहुंचते-पहुंचते उस जवान का मौत हो गयी।

पहले भी समय पर इलाज न मिल पाने के कारण शहीद हुए हैं जवान

गौरतलब है कि तीन वर्ष पूर्व ढिबरा थाना क्षेत्र के भलुआही मोड़ के समीप बम विस्फोट हुआ था। जिसमें पांच जवान गंभीर रूप से जख्मी हुए थे। लेकिन समय पर हेलीकॉप्टर नहीं पहुंचने व अत्यधिक रक्तस्राव हो जाने के कारण सीआरपीएफ के डिप्टी कमांडेंट इंद्रजीत कुमार सहित तीन जवान शहीद हो गये थे।

यही नहीं, इससे पहले भी 18 जुलाई 2016 को औरंगाबाद व गया जिले की सीमा पर स्थित डुमरीनाला के समीप सर्च ऑपरेशन में शामिल जवानों को नक्सलियों ने लैंडमाइंस से उड़ा दिया था। उस दौरान भी समय पर हेलीकॉप्टर नहीं पहुंचा था, जिसके कारण 10 जवानों की मौत हो गयी थी। इसी तरह मंगलवार को पुलिस व नक्सली के बीच हुई मुठभेड़ में यदि समय पर हेलीकॉप्टर की सेवा मिल जाती, तो शायद कोबरा जवान आशीष पात्रा की जान बचायी जा सकती थी।

Comments

Most Popular

To Top