CISF

CISF ने अपनी परामर्श सेवा से 2.54 करोड़ रुपये कमाए

CISF-जवान

नई दिल्ली। केन्द्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (CISF) ने इस वर्ष परामर्श सेवा के जरिए 2.54 करोड़ रुपये कमाए हैं। CISF की परामर्श सेवा वर्ष 1999 में सार्वजनिक और निजी क्षेत्रों को फायर एण्ड सिक्योरिटी कंसल्टेंसी प्रदान करने के लिए शुरू हुई थी। इसका उद्देश्य सीआईएसएफ के ज्ञान एवं विशेषज्ञता को उन संगठनों के साथ साझा करना है, जो उसके सुरक्षा कवच में प्रत्यक्षरूप से नहीं आते हैं।





CISF Consultancy services स्थापना से अब तक सरकारी/निजी एवं सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों के 157 प्रतिष्ठानों को परामर्श सेवाएं प्रदान कर चुकी है, जिसमें कुछ प्रमुख एम्स नई दिल्ली, इलाहाबाद उच्च न्यायालय, सेन्ट्रल जेल भोपाल, आदित्य बिड़ला ग्रुप, बजाज ऑटो लिमिटेड, आईआईटी, आईआईएम इंदौर, इंफोसिस लिमिटेड, एलबीएस अकादमी प्रशासन मंसुरी, संस्कृति मंत्रालय, एसवीपी-एनपीए हैदराबाद, आरबीआई मुम्बई, महालेखा नियंत्रण भवन, नई दिल्ली, ओएमसीएल ओडिशा के संग्रहालय इत्यादि हैं।

CISF केन्द्रीय सशस्त्र पुलिस बलों (सीएपीएफ) में एकमात्र ऐसा बल है, जो अपनी कंसल्टेंसी सर्विसेज के माध्यम से सरकार के लिए राजस्व अर्जित करता है। अब तक, सीआईएसएफ ने कंसल्टेंसी सर्विसेज प्रदान करके सरकारी खजाने में 9.60 करोड़ का योगदान दिया है।

विगत 4 वर्षों में परामर्श शुल्क के माध्यम से अर्जित राजस्व में उल्लेखनीय वृ़द्धि हुई है। वर्ष 2013 के प्रारम्भ होने के बाद से औसत वार्षिक आय 20 लाख थी, जबकि इस सेवा ने पिछले 4 वर्षों में 1.77 करोड़ की औसत से कुल 7.06 करोड़ का राजस्व अर्जित किया है।

वर्तमान कैलेन्डर वर्ष के दौरान, कंसल्टेंसी सर्विसेज के माध्यम से कुल अर्जित राजस्व आय 2.54 करोड़ है, जो कि इस सेवा की स्थापना से अब तक एक कैलेन्डर वर्ष में सर्वाधिक है। इससे पहले वर्ष 2015 में इस सेवा के माध्यम से सबसे ज्यादा कमाई 2.10 करोड़ की थी।

सीआईएसएफ परामर्श सेवाओं के माध्यम से प्रतिष्ठानों/ग्राहकों को आवश्यकतानुसार एकीकृत सुरक्षा समाधान प्रदान करने हेतु प्रतिबद्ध है।

अभी हाल ही में सीआईएसएफ ने एक सामाजिक उत्तरदायित्व के रूप में विभिन्न विद्यालयों को सीआईएसएफ परामर्श सेवाओं की पेशकश की है। अब तक देश के सभी हिस्सों से 14 विद्यालयों ने सीआईएसएफ से विद्यार्थियों की सुरक्षा एवं सुरक्षा उपकरणों को मजबूत करने के लिए परामर्श सेवा प्रदान करने हेतु अनुरोध किया है।

Comments

Most Popular

To Top