CISF

CISF का यह ASI आखिर क्यों मांग रहा इच्छा मृत्यु ?

सहायक सब इंस्पेक्टर आशुतोष रंजन

गया। केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (CISF) में कार्यरत सहायक सब इंस्पेक्टर आशुतोष रंजन ने अपने अधिकारियों पर मानसिक रूप में प्रताड़ित करने का आरोप लगाते हुए राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री से इच्छा मृत्यु की इजाजत मांगी है। एएसआई का एक वायरल वीडियो सामने आया है जिसमें वह बता रहा है कि उसे किस तरह से प्रताड़ित किया जा रहा है।गया के टिकारी प्रखंड निवासी आशुतोष रंजन देश की सेवा करने की भावना लेकर वर्ष 2013 में CISF में सहायक सब इंस्पेक्टर भर्ती हुए थे।





ट्रेनिंग के बाद असम के डिब्रूगढ़ में बीसीपीएल में आशुतोष कुमार की तैनाती हुई। बीसीपीएल प्रबंधन द्वारा कर्मियों के समय पर ड्यूटी न आने की वजह से CISF के जवानों को गेट पर पोस्टिंग देकर अंदर आने वाले कर्मचारियों की रजिस्टर में इंट्री कराने का जिम्मा सौंपा गया। यही ड्यूटी जी का जंजाल बन गया। एक दिन आशुतोष ने एक व्यक्ति को गेट रजिस्टर में समय के साथ एंट्री करने को कहा तो वह व्यक्ति आग-बबूला हो गया व गाली-गलौज पर उतर गया। उस व्यक्ति के खिलाफ थाने में प्राथमिकी की गई। यहीं से उसकी जिंदगी पर अधिकारियों का कहर शुरू हो गया।

छुट्टी देने के बाद किया भगोड़ा घोषित

आशुतोष के मुताबिक, 29 जनवरी 2015 को उसकी शादी तय हुई तो उसने छुट्टी के लिए आवेदन दिया। अधिकारियों द्वारा उसे छुट्टी मंजूर होने की बात बताई गई। छुट्टी मंजूर होने के बाद आशुतोष खुशी-खुशी अपने घर चला गया। दूसरी ओर विभाग ने उसकी छुट्टी को रद कर उसे भगोड़ा घोषित कर दिया और लापता के पर्चे चिपका दिए गए। शादी के बाद वह अपनी पत्नी के साथ असम गया तो वहां भी उसे अधिकारियों की खरी-खोटी सुननी पड़ी।

ऑफिसरों का ‘कहर’

इस मामले को लेकर विभाग से उसे सेंश्योर की सजा दी। उसके बाद उसके हथियार जमा कराकर दूसरी ड्यूटी में लगाया गया। इतने पर भी अधिकारियों द्वारा उसे तंग करना जारी रखा गया। ड्यूटी पर रहने के बावजूद अनुपस्थित बताकर वेतन काट लिया जाता था। एक दिन CISF के अधिकारी उसके क्वार्टर पर पहुंचे और उसकी पत्नी को थप्पड़ जड़ दिया। इसी दौरान अपने पति पर हो रहे अत्याचार की वजह से उसकी पत्नी तनाव में रहने लगी।

सब इंस्पेक्टर आशुतोष रंजन ने बताया

आशुतोष रंजन ने बताया कि आज के समय में भगवान से मुलाकात करना आसान हो गया है, लेकिन न्याय पाना बहुत मुश्किल है। ऐसे में जब इस देश में न्याय नहीं मिल सकता, तो कम से कम मरने का ही आदेश दे दिया जाए।

(आशुतोष रंजन ने जैसा वीडियो में कहा)

Comments

Most Popular

To Top