BSF

BSF स्पेशल ट्रेन ने 78 किमी की दूरी तय की 7 घंटे में, धीमी रफ्तार पर मंत्रालय ने मांगा जवाब

स्टेशन पर बीएसएफ के जवान
स्टेशन पर बीएसएफ के जवान (प्रतीकात्मक)

बरेली। सीमा सुरक्षा बलों (BSF) के जवानों को गुवाहाटी से लेकर चली स्पेशल ट्रेन को बरेली तक पहुंचने में ही 72 घंटे लग गए। एक दैनिक अखबार के मुताबिक उत्तर प्रदेश में दो स्टेशनों के बीच की 78 किलोमीटर की दूरी इस ट्रेन ने सात घंटे में तय की। ट्रेन की रेंग-रेंगकर चलने वाली इस धीमी रफ्तार से नाराज BSF जवानों ने बरेली जंक्शन पर लगभग तीन घंटे तक हंगामा किया। BSF जवानों ने स्टेशन मास्टर का घेराव किया और जानना चाहा कि क्यों इस स्पेशल ट्रेन को बार-बार रोका जा रहा है। अखबार के मुताबिक बताया जाता है कि BSF मुख्यालय ने इस बारे में रक्षा मंत्रालय से शिकायत की है और रक्षा मंत्रालय ने इस बारे में रेल मंत्रालय से जवाब मांगा है।





यह स्पेशल ट्रेन असम से जम्मू-कश्मीर के लिए निकली थी। किन्तु जगह-जगह रुकने की वजह से बरेली जंक्शन तक पहुंचने में ही इसे 72 घंटे से ज्यादा का वक्त लग गया। शाहजहांपुर के एक स्टेशन से बरेली जंक्शन तक की 78 किलोमीटर की दूरी तय करने में ट्रेन ने जब सात घंटे लगा दिए तो BSF के जवानों का धैर्य टूट गया। बरेली जंक्शन पर रविवार की रात एक बजकर 40 मिनट पर जैसे ही ट्रेन प्लेटफार्म पर रुकी नाराज BSF जवानों ने स्टेशन मास्टर का आफिस घेर लिया और जानना चाहा कि क्यों यह ट्रेन बार-बार जगह-जगह रोकी जा रही है। जवानों ने ट्रेन के डिब्बों में पानी और लाइट न होने की बात भी कही। BSF कमांडर ने इस बारे में रेलवे बुक में अपनी शिकायत भी दर्ज कराई। स्टेशन अधिकारियों ने जवानों को समझाया कि ट्रेन को रोकना या चलाना मुरादाबाद कंट्रोल रूम के अधिकार में आता है। खैर किसी तरह से ट्रेन रवाना हुई। बताया जाता है कि ट्रेन जब समय पर जम्मू नहीं पहुंची तो BSF मुख्यालय ने संपर्क किया तो उन्हें सारी बात पता चली। अखबार के मुताबिक BSF हेडक्वार्टर ने इस बारे में रक्षा मंत्रालय से शिकायत की है और रक्षा मंत्रालय ने रेल मंत्रालय से स्पेशल ट्रेन लेट होने के मामले में रिपोर्ट मांगी है।

 

Comments

Most Popular

To Top