BSF

BSF ने बारिश और बाढ़ में घिरे 200 ग्रामीणों को बचाया

केरल बाढ़ के बाद पुनर्निमाण के काम में BSF

नई दिल्ली। भारतीय सेना के तीनों अंगों के साथ-साथ सीमा सुरक्षा बल (BSF) के जवान भी केरल जल त्रासदी के समय देवदूत बनकर सामने आए और उन्होंने भीषण बारिश और बाढ़ में घिरे तकरीब दो सौ ग्रामीणों को बचा लिया।





यह घटना केरल के कुन्नूर जिले के मोरकानीकारा इलाके की है। इस इलाके में अचानक आई बाढ़ में घर घिर गए। घरों में आठ फीट तक पानी घुस गया। इसी बीच उस क्षेत्र में तैनात BSF की 162वीं वाहिनी ने राहत और बचाव कार्यों के लिए मुख्यालय से अनुमति की औपचारिकता में समय गंवाए बिना काम में जुट गयी।

एक अखबार में छपी खबर के मुताबिक दस घंटे के जीतोड़ ऑपरेशन के बाद करीब दो सौ लोगों को सुरक्षित बाहर निकाल लिया गया। बल के जवानों ने अपने लिए आए खाने-पानी को भी बाढ़ पीड़ितों को दे दिया और रहने के लिए जगह का इंतजाम भी किया।

BSF की इस यूनिट के अफसरों ने अपने अनुभव साझा करते हुए बताया कि इन जवानों ने अपनी जेब से तत्काल करीब 1.80 लाख रुपये जमाकर बाढ़ पीड़ितों को दिए ताकि वे अपनी जरूरत की चीजें खरीद सकें। सुरक्षा बल ने यह तथ्य भी साझा किया कि जब 18 अगस्त को सुबह नौ बजे उन्होंने यह ऑपरेशन शुरू किया था तो उन्हें इस बात का विश्वास नहीं था कि वे ग्रामीणों को बचाने में सफल होंगे।

Comments

Most Popular

To Top