Army

अच्छा तो इस वजह से जवानों तक नहीं पहुंच पाता स्वादिष्ट भोजन!

हाल ही में बीएसएफ जवान तेजबहादुर यादव ने वीडियो जारी कर बीएसएफ में मिलने वाले खाने के प्रति नाराजगी जाहिर की। कुछ जवानों के मुताबिक, जब वो डिब्बा खोलते हैं तो उन्हें सूखा हुआ मीट और सूखा हुआ प्याज मिलता है और उस मौसम में कुछ भी स्वादिष्ट नहीं लगता।

नई दिल्ली: हाल ही में बीएसएफ जवान तेजबहादुर यादव ने वीडियो जारी कर बीएसएफ में मिलने वाले खाने के प्रति नाराजगी जाहिर की। उनके बाद कई और जवानों ने भी स्वादिष्ट भोजन न मिलने की शिकायत की लेकिन आपको जानकर हैरानी होगी कि वह भोजन खराब नहीं होता बल्कि आर्मी की भी सेंट्रल आर्म्ड पुलिस फोर्स (सीएपीएफ) को स्वादिष्ट खाना न पहुंचाने के पीछे मजबूरी रहती है।





दरअसल, ठंड के मौसम में या दुर्गम इलाकों में तैनाती के दौरान सेना सीएपीएफ के जवानों को डिब्बाबंद राशन उपलब्ध कराती है। अक्सर जवान इन खानों को लेकर शिकायत करते रहते हैं। कुछ ऐसे ही हालात नियंत्रण रेखा पर भी हैं। एलओसी भी दूरगामी क्षेत्रों में से एक है। यहां भी डिब्बाबंद राशन ही दिया जाता है। कुछ जवानों के मुताबिक, जब वह डिब्बा खोलते हैं तो उन्हें सूखा हुआ मीट और सूखा हुआ प्याज मिलता है और उस मौसम में कुछ भी स्वादिष्ट नहीं लगता।

अर्धसैनिक बलों को खाने-पीने के लिए मिलने वाली सुविधाएं

राशन मनी अलाउंस : मैदानी क्षेत्रों में 95.52 और ऊंचाई वाले क्षेत्रों में 191.04 रुपये का अतिरिक्त भत्ता

प्रति जवान निर्धारित कैलोरी : अर्धसैनिक बल- 3850, सेना (मैदानी इलाके में)- 3906, सेना (ऊंचाई इलाके में)- 4664

अर्धसैनिक बलों को मिलने वाला खाना

नाश्ता: दो परांठे, एक अंडा, अचार, सब्जी, फल
लंच: चावल, चार रोटी, 25 ग्राम दाल, 80 ग्राम पालक-पनीर या 100 ग्राम चिकनकरी और सलाद
डिनर: चावल, चार रोटी, दाल, सब्जी, खीर और सलाद

Comments

Most Popular

To Top