Army

बर्खास्त तेज बहादुर बोले, जवानों व अफसरों का एक ही मेस हो

तेज बहादुर

नई दिल्ली। ‘मेरी सरकार या किसी राजनीतिक पार्टी से दुश्मनी नहीं है। सेना और अर्धसैनिक बलों में जवानों और अफसरों का एक ही मेस होना चाहिए। भ्रष्टाचार करने वाले अफसरों पर कड़ी कार्रवाई होनी चाहिए।’ यह बातें जंतर-मंतर पर प्रतिनिधि परिवार फाउंडेशन द्वारा आयोजित धरने में बीएसएफ से बर्खास्त किए गए तेज बहादुर यादव ने कहीं। इस धरने में शामिल होने सेना से रिटायर अधिकारी और जवान भी पहुंचे।





तेज बहादुर ने कहा कि अगर सरकार हमारी 10 सूत्री मांगों को दो महीने में पूरा नहीं करती है तो बड़ा आंदोलन किया जाएगा। उन्होंने कहा कि यह व्यक्ति विशेष की लड़ाई नहीं है। बल्कि देश की लड़ाई है। सरकार ‘जय जवान जय किसान’ का नारा भूल चुकी है। धरने में तेज बहादुर के परिवार वाले भी शामिल हुए। साथ में मणिपुर की मानवाधिकार कार्यकर्ता इरोम शर्मिला ने भी शिरकत की। उन्होंने कहा कि जवानों की सभी मांगों का वह समर्थन करती हैं। इरोम ने कहा मणिपुर से सशस्त्र बल विशेषाधिकार कानून (AFSPA) को हटाने की जरूरत है।

बता दें कि सोशल मीडिया पर वीडियो के माध्यम से मेस में मिलने वाले खाने की गुणवत्ता पर सवाल उठाने पर तेज बहादुर को बीएसएफ से बर्खास्त कर दिया गया था।

Comments

Most Popular

To Top