Army

शहीद की पत्नी को विधवा नहीं वीरांगना घोषित करने की मांग

सीआईएसएफ-मुख्यालय-में-बैठक

नई दिल्ली। बीएसएफ के शहीद डिप्टी कमांडेंट सुभाष शर्मा की पत्नी बबीता शर्मा ने विधवाओं के सम्मान की बात उठाते हुए उन्हें वीरांगनाएं घोषित करने की मांग की है। उन्होंने यह मांग सीआईएसएफ मुख्यालय में ऑल इंडिया पुलिस गैलेंट्री मेडल अवार्डीज वेलफेयर एसोसिएशन की वार्षिक बैठक में की। बैठक की अध्यक्षता सीआईएसएफ के महानिदेशक ओपी सिंह ने की। ओपी सिंह वेलफेयर एसोसिएशन के भी अध्यक्ष हैं। बैठक में पुलिस बल के पुरस्कार प्राप्त जवानों के परिजनों को मिली सुविधाओं की समीक्षा किए जाने के साथ ही शहीदों के परिवार कल्याण संबंधी मुद्दों को सुलझाने पर जोर दिया गया।





BSF के शहीद डिप्टी कमांडेंट की पत्नी ने की मांग

शहीदों की पत्नियों को ‘विधवा’ नहीं बल्कि ‘वीरांगना’ कहा जाना चाहिए। विधवा संबोधन से सम्मान को ठेस पहुंचती है। एसोसिएशन की बैठक में कोटा निवासी बबीता शर्मा ने विधवाओं के सम्मान की बात उठाते हुए उन्हें वीरांगनाएं घोषित करने की मांग की। इस पर एसोसिएशन ने प्रस्ताव पारित करते हुए विधवाओं को वीरांगनाएं कहे जाने की बात केंद्र सरकार के समक्ष उठाने की बात कही।

बैठक में एसोसिएशन के अध्यक्ष सीआईएसएफ के डीजी ओपी सिंह, राष्ट्रीय महासचिव पूर्व आईपीएस श्रीधर मंडल (बिहार पुलिस), पंजाब के पूर्व डीजीपी राजेंदर सिंह, पंजाब पुलिस के पूर्व आईजी एसएस भुल्लर, एनडीआरएफ के डीआईजी जेके रावत, बिहार से जुड़े पूर्व एएसपी शशिभूषण शर्मा, पूर्व डीएसपी राजेंद्र सिंह, अशोक कुमार सिन्हा के साथ देश भर के पुलिस और पैरामिलिट्री फ़ोर्स के सदस्यों ने शिरकत की। बिहार से जुड़े राष्ट्रीय महासचिव पूर्व एसपी श्रीधर मंडल के बीते ढाई दशकों के योगदान और सफल कार्यों की सदस्यों ने सराहना की।

महाराष्ट्र, पंजाब की ओर से मिली सहायता राशि

एसोसिएशन के अध्यक्ष सीआईएसएफ के डीजी ओपी सिंह ने कहा वह अपनी पोस्टिंग में जहां भी रहेंगे, वहां पदकधारकों के साथ ही शहीदों की विधवाओं से मिलकर उनकी समस्या या परेशानी दूर करने के लिए उचित कदम उठाएंगे। इसके लिए महकमे से लेकर मंत्रालय तक बात की जाएगी। श्रीधर मंडल ने बताया कि पिछले साल सितंबर 2016 में हुए राष्ट्रीय चुनाव के बाद पहली बार निर्वाचित कार्यसमिति की बैठक हुई है।

Comments

Most Popular

To Top