BSF

अटारी में लहराया सबसे ऊंचा तिरंगा, पाकिस्तान को सता रहा ‘जासूसी’ का डर

तिरंगा

नई दिल्ली। पाकिस्तान से महज कुछ ही दूरी पर स्थित भारत-पाकिस्तान अटारी सीमा पर देश का सबसे ऊंचा तिरंगा लहराया गया। रविवार को यहां 360 फुट ऊंचे फ्लैगमास्ट का उद्घाटन किया गया। ये तिरंगा 120 फुट लंबा और 80 फुट चौड़ा है। झंडे के पोल का वजन 55 टन है। इसके निर्माण पर 3.50 करोड़ रुपए का खर्च आया है। यह पंजाब सरकार के अमृतसर सुधार न्यास प्राधिकरण की परियोजना थी। यह तिरंगा इतना ऊंचा है कि इसे पाकिस्तान के लाहौर से भी देखा जा सकता है। इससे पहले देश के सबसे ऊंचे राष्ट्रीय झंडे का खिताब झारखंड के रांची में लगे 293 फुट के तिरंगे को मिला हुआ था।





अमृतसर सुधार न्यास प्राधिकरण ने 6 और झंडों को स्टैंडबॉय के तौर पर रखा हुआ है, ताकि मौसम के कारण तिरंगे में कोई कमी आने पर उसे बदला जा सके। हर झंडे की कीमत 1.25 लाख रुपए है। पंजाब के मंत्री अनिल जोशी ने इस सबसे ऊंचे फ्लैगमास्ट पर देश का सबसे बड़ा तिरंगा फहराया। इस मौके पर उन्होंने कहा, ‘मैं एक सैनिक तो नहीं बन सकता, लेकिन मुझे लगता है हम सभी को ऐसा कुछ करना चाहिए जिससे कि देश और देश की रक्षा करने वाले सैनिकों को गर्व महसूस हो। मुझे गर्व है कि इस तरह को कोई प्रोजेक्ट पूरा हो सका।’

तिरंगा

देश का सबसे ऊंचा तिरंगा

पाकिस्तान ने उठाए सवाल

पाकिस्तान को अटारी में फहराए गए झंडे से परेशानी महसूस हो रही है। सूत्रों के मुताबिक, पाकिस्तानी रेंजर्स ने बोर्डर सिक्यूरिटी फोर्स (BSF) से अपनी नाराजगी जाहिर की है और झंडे को हटाने के लिए कहा है। पाकिस्तान ने इंटरनेशनल बार्डर पर फहराए गए झंडे पर आपत्ति जताते हुए इसे अंतरराष्ट्रीय संधियों का उल्लंघन बताया। पाकिस्तानी अधिकारियों को डर है कि भारत ने झंडे के पोल पर कैमरे लगाए होंगे और इसका इस्तेमाल पाकिस्तानी सरजमीं की जासूसी करने के लिए कर सकता है।

हालांकि, भारतीय अधिकारियों ने स्पष्ट कर दिया था कि फ्लैगमास्ट जीरो लाइन से पहले 200 मीटर पहले स्थापित किया गया है। किसी भी तरह का उल्लंघन नहीं हुआ है। अनिल जोशी ने कहा कि यह हमारा राष्ट्रीय ध्वज है और हमें अपनी धरती पर इसे फहराने से कोई भी रोक नहीं सकता।

Comments

Most Popular

To Top