Army

BSF जवानों को पदक देते राजनाथ ने सोशल मीडिया पर दी यह सलाह

गृह-मंत्री-राजनाथ-सिंह

नई दिल्ली। केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने गुरुवार को कहा कि सोशल मीडिया के माध्यम से दुश्मन अफवाह फैलाने का प्रयास कर रहे हैं। हमने कई बार देखा है कि कभी-कभी हमारे जवान और अधिकारी भी बिना प्रामाणिकता के फेसबुक, वाट्सअप पर ऐसी खबरें भेज देते हैं। राजनाथ ने यह बात गुरुवार को सीमा सुरक्षा बल (Border Security Force) के 15वें अलंकरण समारोह के अवसर पर कही। इस मौके पर उन्होंने सीमा सुरक्षा बल के बहादुर अधिकारियों और जवानों को पदक प्रदान किए।





  • 29 जवानों और अधिकारियों को वीरता और उत्कृष्ट सेवाओं के पदक दिए गए
  • छठी एशियन पैरा साइक्लिंग चैम्पियनशिप 2017 के कांस्य पदक विजेता सिपाही हरिन्दर सिंह को भी सम्मानित किया गया
  • BSF दुनिया का सबसे बड़ा सीमा सुरक्षा बल है, जिसकी नफरी ढाई लाख है
  • समारोह में इंटेलिजेंस ब्यूरो (IB) के निदेशक राजीव जैन, बीएसएफ के पूर्व महानिदेशकों के अलावा वरिष्ठ अधिकारी और गृह मंत्रालय के अधिकारी भी मौजूद थे
  • बीएसएफ भारत की पहली सुरक्षा दीवार
  • पहले महानिदेशक के. एफ. रुस्तमजी की याद में हर साल अलंकरण समारोह होता है।

Posted by BSF on Wednesday, May 31, 2017

सीमा सुरक्षा बल

सीमा सुरक्षा बल के 15वें अलंकरण समारोह में कांस्टेबल दलजीत सिंह को प्रधानमंत्री जीवन रक्षक अवार्ड से सम्मानित करते राजनाथ सिंह

सीमा सुरक्षा बल

सीमा सुरक्षा बल के 15वें अलंकरण समारोह में बीएसएफ की महिला जवान ‘प्रहरी वीरांगनाएं’ पर स्पेशल डाक्यूमेंट्री भी दिखाई गई

सीमा सुरक्षा बल

सीमा सुरक्षा बल के 15वें अलंकरण समारोह में शहीद जवान राजेश शरण की पत्नी को सम्मानित करते गृह मंत्री

सीमा सुरक्षा बल

सीमा सुरक्षा बल के 15वें अलंकरण समारोह में शहीद कांस्टेबल संजय धर की पत्नी को सम्मानित करते गृह मंत्री

इसी कार्यक्रम में उन्होंने कहा कि सोशल मीडिया की अफवाहों पर ध्यान नहीं देना चाहिए। राजनाथ ने जवानों से अपील करते हुए कहा कि राष्ट्रहित में बिना प्रमाणित खबर को वायरल न करें। राजनाथ ने सीमा सुरक्षा बल के जवानों से कहा, ‘मैं यह इसलिए कह रहा हूं, क्योंकि आपके पास सीमा सुरक्षा की जिम्मेदारी ही नहीं है, बल्कि देश की एकता और अखंडता की भी जिम्मेदारी है।’

साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि 2016 में सेना द्वारा नियंत्रण रेखा (एलओसी) के पार की गई सर्जिकल स्ट्राइक के बाद आतंकवादियों द्वारा घुसपैठ के मामले काफी घटे हैं। बॉर्डर पर तीन स्तरीय सुरक्षा की व्यवस्था की जा रही है। हम बॉर्डर पर सुरक्षा बलों को एकीकृत करने की ओर बढ़ रहे हैं। सुरक्षा बलों, खुफिया तंत्रों और पुलिस के मध्य बेहतर समन्वय स्थापित कर उन्हें मजबूत किया जा रहा है। उन्होंने एक बार फिर दोहराया कि शहीद जवानों के परिवारों को एक करोड़ रूपये अनुग्रह राशि दी जानी चाहिए। इस अवसर पर बॉर्डर सिक्यूरिटी फोर्स (बीएसएफ-BSF) के महानिदेशक केके शर्मा ने बीएसएफ कर्मियों को संबोधित किया।

Comments

Most Popular

To Top