BSF

शाबाश! आजादी के बाद BSF की वजह से यहां बन रही हैं पक्की सड़कें

देश की सीमा की रक्षा के साथ-साथ बीएसएफ अब सरकारों का भी काम कर रही है। आजादी के लगभग सात दशक बाद पहली बार कांकेर में अंतागढ़ और आमाबेड़ा रूट पर दो गांव निर्झर और बोड़गांव में पक्की सड़के बनाई जा रही है।

भिलाई: देश की सीमा की रक्षा के साथ-साथ बीएसएफ अब सरकारों का भी काम कर रही है। आजादी के लगभग सात दशक बाद पहली बार कांकेर में अंतागढ़ और आमाबेड़ा रूट पर दो गांव निर्झर और बोड़गांव में पक्की सड़के बनाई जा रही है। सबसे बड़ी बात यहां पर यह है कि इन सड़कों का निर्माण बीएसएफ की सुरक्षा में ही किया जा रहा है।





  • बीएसफ के सहयोग से आमाबेड़ा रूट में ग्राम निर्झर और बोड़ागांव के लोग इन निर्माण कार्यों से बेहद खुश हैं।
  • यहां कच्ची सड़कें तो सालों थी, लेकिन ऐसी कि दोपहिया तक चलाना मुश्किल था।
  • सड़क पर गड्ढे हो गए थे। अब यहां के ग्रामीणों को इन सड़कों से विकास की उम्मीद बंधी है।
  • बालोद और कांकेर जिले के नक्सल प्रभावित इलाके के अधिकांश गांव पगडंडियों और कच्ची सड़कों से जुड़े हैं।
  • आजादी से बाद इन गांवों तक सड़कें नहीं पहुंची। बाद के सालों में कांकेर नक्सल प्रभावित हो गया।
  • अब बीएसएफ की सुरक्षा में दोनों जिलों में कच्ची सड़कों को पक्की सड़क और जहां सड़कें ही नहीं थी वहां नई सड़कें बनाने का काम तेजी से चल रहा है।
  • बीएसएफ करीब 130 किलोमीटर लंबी सड़क बना रही है। इन क्षेत्रों में करीब पांच सौ जवान निर्माण स्थलों पर तैनात किए गए हैं। इससे 200 गांवों को फायदा मिलेगा।

वैसे यह पहला मौका नहीं है जब बीएसएफ इस तरह का काम कर रही हो। इससे पहले बीएसएफ के सहयोग से संगम, प्रतापपुर और इरीकगुड़ा से कापसी क्षेत्र के गांवों को राज्य मार्ग से जोड़ने का काम सफलतापूर्वक पूरा किया गया है। राज्य सरकार और ग्रामीण निकायों द्वारा क्षेत्र में किए सड़क निर्माण से करीब दो सौ गांवों को इसका लाभ मिलने लगा है।

सुरक्षा देने का वादा: महेंद्र सिंह (आईजी, बीएसएफ) क्षेत्र के विकास में सुरक्षा आड़े नहीं आना चाहिए। विकास के काम में कोई निजी एजेंसी लगी हो या सरकारी एजेंसी, हम हर संभव मदद करने के लिए तैयार हैं। 

यह हैं प्रमुख निर्माणाधीन सड़कें

  • अंतागढ़ से आमाबेड़ा 35 किमी 
  • कोयलीबेड़ा से प्रतापपुर 35 किमी
  • कोयलीबेड़ा से कलगांव 16 किमी 
  • छोटेबेटिया से रेंगावाही 11 किमी 
  • बांदे से इरपानार 36 किमी  

Comments

Most Popular

To Top